बाबाधाम में शिव भक्तों को अब नहीं होगी परेशानी, VIP पूजा बंद

जानकारी

पटना: आगामी  श्रावणी मेले के दौरान बाबा वैद्यनाथ मंदिर में वीआईपी पूजा की व्यवस्था नहीं रहेगी। पिछले वर्ष से ही झारखण्ड सरकार के निर्णयानुसार शुरू की गयी इस परिपाटी को इस वर्ष भी लागू रखने का निर्णय लिया गया है। इस बाबत सरकार के संयुक्त सचिव की ओर से पत्र भी जारी कर दिया गया है। बड़ी बात यह है कि मासव्यापी श्रावणी मेले के दौरान वीआईपी पूजा व्यवस्था बंद रहने के कारण किसी भी वीआईपी के नहीं पहुंचने को लेकर अनुरोध भी किया गया है।

संयुक्त सचिव की ओर से इसको लेकर केन्द्रीय कैबिनेट सचिव, भारत के सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिव, सर्वोच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जेनरल और देश के सभी उच्च न्यायालयों के रजिस्ट्रार जेनरल को जारी किए गए पत्र में इस बात की जानकारी दी गयी है पिछले वर्ष सरकार की ओर से लिए गए निर्णय को बरकरार रखते हुए इस वर्ष भी श्रावणी मेले में किसी प्रकार की वीआईपी पूजा की व्यवस्था नहीं करायी जाएगी। उन्होंने सबों से आग्रह किया है कि ऐसे में श्रावणी मेले के दौरान वीआईपी पूजा हेतु किसी प्रकार की अनुशंसा या अपेक्षिकाएं सीधे झारखण्ड सरकार या जिला प्रशासन देवघर को ना भेजें।

अपने पत्र में संयुक्त सचिव ने इस बात की चर्चा की है कि बाबा वैद्यनाथ द्वादश ज्योतिर्लिंगों में एक हैं। श्रावणी मेले के दौरान बाबा वैद्यनाथ पर जलार्पण करने के लिए देशभर से प्रति दिन लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं का आगमन देवघर में होता है। ऐसे में श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सरकार ने पिछले वर्ष के ही समान इस वर्ष भी वीआईपी पूजा की व्यवस्था नहीं रखने का निर्णय लिया है।

बताते चलें कि वर्ष 2015 तक देशभर के वीआईपी के लिए विशेष व्यवस्था सरकार के स्तर पर करायी जाती थी। बाबा वैद्यनाथ मंदिर के गर्भगृह का पट भोर में खुलने के बाद कांचा जल पूजा व सरकारी पूजा खत्म होने के बाद लगभग 40 मिनट वीआईपी भक्तों को पूजा के लिए दिया जाता था। उसके लिए मंदिर प्रबंधन की ओर से वीआईपी पास जारी किए जाते थे। इस व्यवस्था के कारण भीड़ में परेशानी को देखते हुए सरकार ने गत वर्ष से वीआईपी पूजा पर रोक लगाने की घोषणा की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.