Shiv Temple

एशिया का 111 फीट सबसे ऊंचा Shiv मंदिर तैयार हुआ 43 सालों में

आस्था

सोलन शहर से करीब 7 किलोमीटर की दूरी पर भवननिर्माण कला का बेजोड़ नमूना जटोली मंदिर स्थित है। इसे एशिया का सबसे ऊंचा Shiv मंदिर माना जाता है। यहां शिवरात्रि को भारी संख्या में शिव भक्त आते हैं। यह शिव मंदिर दक्षिण-द्रविड शैली से बना हुआ है।

मंदिर को बनने के लिए करीब 43 साल का समय लगा है। माना जाता है कि पौराणिक समय में भगवान शिव यहां आए थे अौर कुछ समय के लिए यहां पर रुके भी थे। बाद में बाद में एक सिद्ध बाबा स्वामी कृष्णानंद परमहंस ने यहां आकर तपस्या की। उनके मार्गदर्शन और दिशा-निर्देश पर ही जटोली शिव मंदिर का निर्माण शुरू हुआ।

मंदिर के कोने में स्वामी कृष्णानंद की गुफा भी है। यहां पर Shiv लिंग स्थापित किया गया है। मंदिर का गुंबद 111 फीट ऊंचा है। इसी कारण ये एशिया का सबसे ऊंचा मंदिर है। भोलेनाथ के दर्शनों हेतु भक्त दूर-दूर से यहां आते हैं। मंदिर में हर रविवार को भंडारा लगता है।




दक्षिण भारतीय मंदिरों की वास्तुशैली से निर्मित जटोली मंदिर 1974 में स्वामी कृष्णानंद परमहंस महाराज ने शुरू किया था। निर्माणाधीन मंदिर में 1983 में समाधि लेने के बाद निर्माण कार्य का जिम्मा मंदिर प्रबंधन कमेटी ने संभाला।




Shiv Temple




Shiv Temple




Shiv Temple




Shiv Temple



Leave a Reply

Your email address will not be published.