अद्भुत : एक ऐसा द्वीप जिसका आकार है ‘ओम’ की तरह है , भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों की श्रृंखला में चौथे स्थान पर आता है।

आस्था

भारत के हृदय राज्य मध्य प्रदेश के मुख्य आकर्षणों में ओंकारेश्वर का नाम भी आता है। यह एक द्वीप है, जो ऊंचाई से देखने पर ‘ओम’ की आकृति का नजर आता है। ‘ओम’ हिन्दू धर्म के अनुयायियों का पवित्र प्रतिक है। यहां दो ऊंची पहाड़ियां और घाटी इस द्वीप को अलग करती है, जिससे इस स्थल को ओम का आकार मिलता है।

यह एक पवित्र स्थल है जहां दूर-दूर से श्रद्धालु गहरी आस्था के साथ प्रवेश करते हैं। यहां आसपास के प्राकृतिक दृश्य देखने लायक हैं। इस स्थल को यहां बहने वाली नर्मदा नदी संवारने का काम करती है। इस खास लेख में जानिए धार्मिक पर्यटन के लिहाज से यह स्थल आपके लिए कितना खास है, जानिए यहां के पवित्र मंदिरों के बारे में।

ओंकारेश्वर मंदिर

ओंकारेश्वर भ्रमण की शुरूआत आप यहां के मुख्य आकर्षण ओंकारेश्वर मंदिर के दर्शन से कर सकते हैं। हिन्दू धर्म की मुख्य आस्था का केंद्र यह पवित्र स्थल भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों की श्रृंखला में चौथे स्थान पर आता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार इस स्थल पर भगवान शिव रोशनी के रूप में अवतरित हुए थे।

इस पौराणिक महत्व के कारण यहां हिन्दू श्रद्धालुओं का भारी जमावड़ा लगता है। यह मंदिर ओंकारेश्वर का केंद्रीय आकर्षण है, क्योंकि यहां ज्यदातार लोग भगवान शिव के दर्शन के लिए ही आते हैं।

मामलेश्वर मंदिर

ओंकारेश्वर मंदिर के दर्शन के अलावा आप यहां के मामलेश्वर मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं। ओंकारेश्वर के दर्शन के बाद श्रद्धालु यहां मामलेश्वर के दर्शन करते हैं। यहां श्रद्धाओं को ज्योतिर्लिंग को छूकर पूजा करने की इजाजत है। यह मंदिर ओंकारेश्वर मंदिर के ठीक विपरीत नर्मदा नदी के किनारे स्थित है।

शिवलिंग के पीछे देवी पार्वती की भी प्रतिमा यहां मौजूद है। धार्मिक यात्रा के लिए आप यहां आ सकते हैं। परिवार के साथ एक यादगार यात्रा बनाने के लिए आप यहां जरूर आएं।

काजल रानी गुफा

धार्मिक स्थलों के दर्शन के अलावा आप यहां को थोड़े रोमांचक स्थलों की सैर का भी आनंद ले सकते हैं। यहां स्थित काजल रानी गुफा चुनिंदा पर्यटन स्थलों में गिनी जाती है। यह गुफा स्थल न सिर्फ आपको अतीत में ले जाएगा बल्कि अपनी अद्भुत भौगोलिक सरंचना से रोमांचित भी करेगा।

ओंकारेश्वर से लगभग 9 किमी की दूरी पर स्थित काजल रानी गुफा एक शानदार पर्यटन स्थल जहां की यात्रा आपको जरूर करनी चाहिए। इतिहास में दिलचस्पी रखने वालों और प्रकृति प्रेमियों के लिए यह एक आदर्श स्थान है। यहां आकर आप अपने ज्ञान का विस्तार कर सकते हैं।

सिद्धनाथ मंदिर

ओंकारेश्वर और मामलेश्वर मंदिर के अलावा आप यहां के अन्य पवित्र स्थल सिद्धनाथ मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर अपनी अद्भुत वास्तुकला के लिए जाना जाता है। इस मंदिर स्थल को बनाने की शैली में ब्राहमिनिक वास्तुकला का प्रभाव दिखता है। यह मंदिर न सिर्फ श्रद्धालुओं को अपनी ओर आकर्षित करता बल्कि यहां कला प्रेमी और इतिहास में दिलचस्पी रखने वाले भी आते हैं।

मंदिर परिसर में हाथियों की बनाई गईं कलाकृतियां देखने लायक है। इस मंदिर की वास्तुकला को देख प्राचीन शिल्पकारों की दक्षता का खूब पता चलता है। अगर आप अपनी धार्मिक यात्रा के दौरान कुछ अलग अनुभव करना चाहते हैं तो यहां जरूर आएं।

कैसे करें प्रवेश

ओंकारेश्वर मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है जहां आप परिवरन के तीनों साधनों का इस्तेमाल कर पहुंच सकते हैं। यहां का नजदीकी हवाईअड्डा इंदौर एयरपोर्ट है। रेल मार्ग के लिए आप ओंकारेश्वर रोड रेलवे स्टेशन का सहारा ले सकते हैं। अगर आप चाहें तो यहां सड़क मार्गों से भी पहुंच सकते हैं। ओंकारेश्वर बेहतर सड़क मार्गों से राज्य के बड़े शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.