आज है शीतलाष्टमी, जाने कैसे किया जाता है ये व्रत और क्या है व्रत कथा

आस्था

आज 02 जुलाई को अषाढ़ माह की शीतलाष्टमी है. शीतलाष्टमी पर भक्तों ने मां शीतला को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखा है और उन्हें बासी खाने का भोग लगाया. शीतला माता को स्वच्छता एवं आरोग्य की देवी माना जाता है। मान्यता है कि शीतला मां की विधि-विधान से पूजन करने से आपके घर में रोग-दोष, बीमारी, महामारी का प्रकोप नहीं पड़ता। शीतला माता को चेचक रोग से मुक्ति की देवी के रूप में भी जाना जाता है। शीतला माता की पूजा में एक दिन पहले बने बासी खाने का भोग लगाया जाता है, इसलिए शीतलाष्टमी को बसौड़ा भी कहते हैं। शीतलाष्टमी के दिन व्रत रख कर मां का पूजन-अर्चन करने के बाद व्रत कथा सुनने का विधान है।

क्या है शीतला अष्टमी कथा?

पौराणिक कथा के अनुसार: एक गांव में ब्राह्मण दंपति रहते थे. दंपति के दो बेटे और दो बहुएं थीं. दोनों बहुओं को लंबे समय के बाद बेटे हुए थे. घर में सभी मिल कर प्रेम से रहते थे, तभी शीतलाष्टमी का पर्व आया। दोनों बहुओं ने व्रत के विधान के अनुसार, एक दिन पहले ही बासौड़ा मतलब बासी भोजन मां के भोग के लिए तैयार कर लिया। लेकिन दोनों की संतानें छोटी थीं, उनको लगा कि कहीं बासी खाना उनके बच्चों को नुकसान न कर जाए, इसलिए उन्होंने अपने बच्चों को ताजा खाना बना के खिला दिया। शीतला मां का पूजन करने बाद जब वो घर लौटीं, तो बच्चों को मरा हुआ देख रोने लगी। उनकी सास ने उन्हें शीतला मां को नाराज करने का फल बताया और कहा जाओ जब तक अपने बच्चे जीवित न कर लेना घर वापस नहीं आना।

दोनों बहुएं अपने मरे हुए बच्चों को लेकर भटकने लगीं ,तभी उन्हें खेजड़ी के पेड़ के नीचे ओरी और शीतला दो बहनें मिलीं। दोनों बहने गंदगी और जूं के कारण बहुत परेशान थीं। बहुओं से उन बहनों की परेशानी देखी नहीं गई, उन्होंने अपना दुख भूल कर दोनों बहनों के सिर से जूएं निकालें। जूएं निकालने के बाद शीतला और ओरी ने प्रसन्न हो कर दोनों बहुओं के पुत्रवती होने की कामना की। इस पर दोनों बहुएं अपना दुख बता कर रोने लगीं।

शीतला माता अपने स्वरूप में प्रकट हुईं। दोनों बहुओं को शीतलाष्टमी के दिन ताजा खाना खाने की भूल का एहसास दिलाया और इसे सेहत के लिए हानिकारक बताया। शीतला मां ने दोनों बहुओं को अपनी गलती आगे से न दोहराने की चेतावनी देते हुए दोनों के बच्चों को जीवित कर दिया। शीतला मां के साक्षात दर्शन और अपने बच्चों को पुनः जीवित पाकर दोनों बहुएं बहुत प्रसन्न हुईं। बहुएं तब बच्चों के साथ लेकर आनंद से पुनः गांव लौट आई. गांव के लोगों ने जाना कि दोनों बहुओं को शीतला माता के साक्षात दर्शन हुए थे. दोनों का धूम-धाम से स्वागत करके गांव प्रवेश करवाया. बहुओं ने कहा, ‘हम गाँव में शीतला माता के मंदिर का निर्माण करवाएंगी. और दोनों बहुओं ने आजीवन विधि-विधान से शीतला मां की पूजा और व्रत करने लगीं।

शीतला माता की कृपा से हम सब भी अपने जीवन में सेहत और आरोग्य प्राप्त करें। बोलो शीतला माता की जय।

Leave a Reply

Your email address will not be published.