शरद यादव सर्वसम्मति फिर बनेंगे JDU के अध्यक्ष, दिल्ली में जल्द होगा ऐलान

राजनीति

जदयू के बागी नेता शरद यादव ने नीतीश कुमार के साथ आर-पार की लड़ाई छेड़ दी है। शरद यादव ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में समानांतर सम्मेलन की तैयारी कर ली है।

शरद ने बगावत करते हुए लालू प्रसाद की ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ रैली में शिरकत किया था। उसके बाद से नीतीश खेमे की ओर से लगातार शरद यादव के खिलाफ कार्रवाई के दावे किए जा रहे हैं। नीतीश खेमे की ओर से यह भी कहा गया कि शरद यादव की सदस्यता रद्द करवाने के लिए पहल किए जाएंगे।

इधर जदयू के बागी गुट के तेवर भी ढीले नहीं हैं। शरद यादव गुट की ओर से भी नीतीश कुमार के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराने की तैयारी है। शरद यादव के करीबी अरुण श्रीवास्तव ने पटना में औपचारिक रूप से ऐलान करते हुए कहा कि आगामी 18 सितंबर को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद की बैठक होगी। जिसमें शरद यादव को जदयू का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना जाएगा।
शरद यादव गुट की ओर से दावा किया गया कि अगर नीतीश खेमे की ओर से शरद यादव पर दल विरोधी काम करने को लेकर राज्यसभा के सभापति के पास शिकायत करेंगे तो वैसे में हम भी चुनाव आयोग में जाकर नीतीश कुमार के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएंगे।

अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि संविधान की दसवीं अनुसूची की धारा 2 का उल्लंघन शरद ने नहीं नीतीश कुमार ने किया है। शरद तो जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के आदेश पर ही राजद के रैली में शामिल हुए थे।

जदयू के पार्टी प्रवक्ता नीरज कुमार सिंह ने कहा कि शरद यादव ने लालू प्रसाद यादव की रैली में जाकर स्वेच्छा से पार्टी की सदस्यता का परित्याग कर दिया है और अब उन्हें लालू प्रसाद के परिवार और अपने परिवार के साथ मिलकर राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाने पर विचार करना चाहिए। नीरज कुमार ने कहा कि शरद यादव के साथ न कोई विधायक न कोई MP हैं ऐसे में उनकी सदस्यता जानी तय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.