शराब नहीं, नेचुरल ड्रिंक है ताड़ी’, चिराग पासवान ने नीतीश कुमार से की प्रतिबंध हटाने की मांग

खबरें बिहार की जानकारी

 बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के बाद अब लोक जनशक्ति पार्टी रामविलास (LJPR) के अध्यक्ष और जमुई से सांसद चिराग पासवान ने ताड़ी को नेचुरल ड्रिंक बताया है। चिराग पासवान ने नीतीश कुमार की सरकार से राज्य में ताड़ी पर से प्रतिबंध हटाने की मांग की है। पासवान ने कहा कि हम ताड़ी की तुलना शराब से नहीं कर सकते… इसे शराब की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता है। यह ताड़ के पेड़ से पैदा होने वाला एक प्राकृतिक रस है। यह शराब में कैसे बदल गया यह नीतीश कुमार और उनके नौकरशाह ही समझ सकते हैं।

चिराग पासवान ने कहा कि पासी समुदाय के लाखों लोग ताड़ी पर निर्भर हैं। यह उनकी कमाई का एकमात्र जरिया है। जमुई सांसद ने कहा कि राज्य के हर ब्लॉक में शराब बनाने की इकाइयां स्थापित हैं और अधिकारी उन्हें संचालित करने की अनुमति दे रहे हैं। नीतीश कुमार पटना के एक बड़े बंगले में बैठे हैं, जबकि पासी समाज के गरीब लोगों का वर्तमान और भविष्य अंधेरे में है। नीतीश कुमार को उनकी दुर्दशा दिखाई नहीं दे रही है।

चिराग पासवान ने प्रशासन पर लगाए आरोप

चिराग पासवान ने कहा कि राज्य की प्रशासन ताड़ी बेचने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर रहा है और उन्हें गिरफ्तार कर रहा है। जब उन्होंने इसका विरोध किया तो राजधानी पटना में राज्य पुलिस ने उन्हें बेरहमी से पीटा और जेल में डाल दिया। पासवान ने कहा कि बिहार की पुलिस और अन्य प्रशासनिक अधिकारी अवैध शराब के कारोबार में शामिल लोगों को गिरफ्तार नहीं कर रहे हैं क्योंकि वे कमाई का हिस्सा उनके साथ भी साझा कर रहे हैं।

जीतन राम मांझी भी कर चुके हैं बैन हटाने की मांग

बता दें कि चिराग पासवान से पहले हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा के संरक्षक व पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी ताड़ी को नेचुरल जूस बताया। उन्होंने कहा कि इसे बैन करना ठीक नहीं है। जीतन राम मांझी ने बुधवार को कहा है कि मैंने पहले भी कई बार कहा है कि ताड़ी पर बैन लगाना ठीक नहीं है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जो मन में ठान लेते हैं उसे करके दिखाना चाहते हैं। ताड़ी के व्यवसाय से बिहार के लाखों लोग जुड़े हैं। इसे शराब की श्रेणी में नहीं रखना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ताड़ी का व्यवसाय छोड़कर अन्य काम करने के लिए लोगों को एक लाख की मदद दे रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.