शहीद की शहादत में आसमां से भी बरसे आंसू, अंतिम दर्शनों के लिए चार किलोमीटर तक उमड़ पड़ा जन सैलाब

राष्ट्रीय खबरें

पटना: कश्मीर के अनन्तनाग में शुक्रवार सुबह अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा के लिए जा रही पेट्रोलिंग के दौरान आतंकियों के हमले में गोली लगने से शहीद हुए राजमहल के मिश्री लाल मीणा को शनिवार शाम पंचायत क्षेत्र के माताजी रावता गांव के मोक्षधाम में सैनिक सम्मान के साथ अंतिम सलामी दी गई। शहीद को उनके पुत्र विजय सिंह मीणा ने मुखाग्रि दी। इससे पूर्व सैनिक का पार्थिव शरीर कश्मीर से हैलिकॉप्टर द्वारा देवली व देवली से सडक़ मार्ग द्वारा राजमहल पहुंचा शहीद के अंतिम दर्शनों के लिए लोगों का जनसैलाब उमड़ पड़ा।

मुख्यमंत्री राजे की ओर से कृषि मंत्री ने किया पुष्प चक्र भेंट
शहीद के निवास से माताजी रावता गांव तक लगभग चार किमी दूरी तक ग्रामीणों व परिजनों ने पुष्प वर्षा व डीजे पर देशभक्ति गानों की धुनों पर शव यात्रा निकाली गई। शव यात्रा में लोगों ने शहीद के जयकारें लगाए। रावता गांव के मोक्षधाम में शहीद के पार्थिव देह को अंतिम सलामी से पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की ओर से कृषि मंत्री प्रभु लाल सैनी ने पुष्प चक्र भेंट किया। वहीं शहीद के पुत्र को राज्य सरकार की ओर से संवेदना पत्र सौंपा गया।

बेटा देवली एसबीआई बैंक में है कार्यरत
उल्लेखनीय है कि शहीद के माता-पिता व एक भाई की पूर्व में ही मौत हो चुकी है। वही दो भाई शिवपाल व हंसराज है, जो राजमहल में कृषि कार्य कर जीवनयापन करते है। वही एक पुत्र विजय सिंह देवली एसबीआई बैंक में कार्यरत है। दो पुत्रियां जिनमें बड़ी पुत्री बबली व छोटी पुत्री रिंकू है, जिनका विवाह शहीद ने गत 8 फरवरी को दो माह की छुट्टी के दौरान करके वापस ड्यूटी पर गया था।

ग्रामीणों ने निवास स्थान पर निभाई अंतिम रस्में
परिवार में पत्नी बांची देवी शहीद की पार्थिव देह जैसे ही निवास स्थान पर पहुंची परिजनों ने रो-रोकर सुध खो दी। करीबी रिश्तेदारों ने उन्हें ढ़ाढ़स बंधाया। वही ग्रामीणों ने निवास स्थान पर अंतिम रस्में निभाई।

राजमहल व रावता गांव रहे बंद

शहीद के सम्मान में शनिवार को राजमहल गांव के लोगों ने हाथों में तिरंगा लेकर गमगीन रैली निकाली। व्यापारियों ने इस दौरान अपने अपने प्रतिष्ठान सुबह से बंद रखे। जिन्होंने अंतिम संस्कार के बाद ही खोले।

ये भी रहे मौजूद
इधर, सीआरपीएफ के अजमेर रैंज के डीआईजी आरजीआर भट्ट व कमांडेड अरुण कुमार मीणा की ओर से अंतिम सलामी देने के साथ ही सेना की ओर से पुष्प चक्र भेंट किया गया। इसी प्रकार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलेट की ओर से प्रतिपक्ष के उप नेता रमेश मीणा एवं टोंक जिलाध्यक्ष लक्ष्मण सिंह गाथा की ओर से पुष्प चक्र भेंट किया गया। शहीद की अंतिम यात्रा में टोंक सवाई माधोपुर सासंद सुखबीर सिंह जोनापुरिया, टोंक विधायक अजित मेहता, देवली उनियारा विधायक राजेन्द्र गुर्जर, टोडा मालपुरा विधायक कन्हेया लाल चौधरी, देवली प्रधान शकुंतला वर्मा, टोडा प्रधान शीला मीणा, कलेक्टर टोंक रामचन्द्र ढेनवाल, पूर्व विधायक रामनारायण मीणा, देवली तहसीलदार मान सिंह आमेरा, राजमहल सरपंच चांद खां, उप सरपंच तेजाराम वर्मा सहित जिले के दर्जनों अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

Source: Patrika News

Leave a Reply

Your email address will not be published.