बिहार के पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में 63 वर्षों से रावण वध का कार्यक्रम किया जा रहा है. जिसे देखने के लिए हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ती है, इसे देखते हुए दशहरा कमेटी के संयोजक कमल नोपानी ने गया जिला के कलाकार से रावण मेघनाथ और कुंभकरण का पुतला बनवाया है. रावण के पुतले की लंबाई 75 फीट, कुंभकरण 70 फीट, और मेघनाथ 65 फीट का बनाया गया है जो कि लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र होगा.

वहीं, दशहरा कमेटी संयोजक कमल नोपानी ने बताया की प्राकृतिक आपदा की वजह से सादगी है. लेकिन पुरानी परम्परा को देखते हुए रावण मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले तैयार किए गए हैं और रावण वध का कार्यक्रम शाम 4:30 बजे शुरू कर 5:30 तक समाप्त कर दिया जाएगा. इस कार्यकम को देखने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री समेत कई वीआईपी शिरकत करेंगे.

यहां झांकी का स्वरूप तीन बजे से गांधी मैदान के सराउंडिंग एरिया में निकलेगा. 4:36 मिनट में प्रवेश के बाद रावण वध का कार्यक्रम किया जाएगा. उसके बाद आतिशबाजी का कार्यक्रम किया जायगा, इस बार भीषण बारिश की वजह से कारीगरों को पुतला बनाने में थोड़ी समस्याएं आई इसलिए 1 माह 6 दिन लग गए, फिर भी किसी तरह कारीगरों ने पुतला को तैयार कर लिया है.

इस कार्यक्रम को देखते हुए जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट पर है और सुरक्षा के दृष्टिकोण से आम लोगों के प्रवेश के लिए गेट नंबर 10, 5, 7 को 2 बजे दिन में खोल दिया जाएगा ताकि लोग रावणवध का कार्यक्रम देख सकें. कार्यक्रम खत्म होने के बाद गांधी मैदान के सभी गेट खोल दिए जाएंगे ताकि लोग आराम से निकल सकें.

इसे देखते हुए गांधी मैदान मे 12 मजिस्ट्रेट समेत पांच सौ से अधिक पुलिस बल तैनात किए गए हैं. सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जा रही है. वहीं, किसी प्रकार के हादसे से निपटने के लिए पीएमसीएच को अलर्ट पर रखा गया है जिसमे एक वायरलेस सेट के साथ एक ऑपरेटर की तैनाती की गई है ताकि पल-पल की जानकारी दी जा सके. इसके लिए इमरजेंसी में 10 से अधिक बेड का भी इंतजाम के साथ गांधी मैदान के बाहर आधे दर्जन एंबुलेंस की व्यवस्था कर इसकी पूरी मॉनिटरिंग जिलाधिकारी कुमार रवि और पटना एसएसपी खुद कर रहे हैं.

Sources:-Zee News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here