सरकारी नौकरियों की तैयारी कर रहें युवाओं के बीच धूम मचा रहा है Setters का ट्रेलर

खबरें बिहार की

कलाकार – श्रेयस तलपड़े, आफताब शिवदासानी, सोनाली सेगल, इशिता दत्ता, पवन राज मल्होत्रा और विजय राज। लेखक, निर्देशक – अश्विनी चौधरीनिर्माता – विकास मणि और नरेंद्र हीरावत

सामयिक विषयों पर ‘धूप’ और ‘लाडो’ जैसी फ़िल्म बनाने वाले राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार विजेता अश्विनी चौधरी ने हर बार की तरह इस बार भी कुछ अलग करने की कोशिश की है। देश भर में सरकारी नौकरियों को लेकर सेटिंग और जालसाज़ी चरम पर है। परीक्षा पेपर्स का बार-बार लीक होना, सरकारी नौकरियों की सीट पर दाखिले की सेटिंग की पूरी कहानी को समेटने की कोशिश है Setters मूवी! फ़िल्म का ट्रेलर साफ़ तौर पर देश में हो रहे सेटिंग स्कैम का स्टिंग ऑपरेशन करता नज़र आता है। ट्रेलर देखने के बाद आप महसूस करेंगे कि फ़िल्म की बेहतरीन पटकथा आपको एक मिनट के लिए भी बोर नहीं करेगी।

फ़िल्म के ट्रेलर को दमदार बनाने में संतोष थुंडियल की सिनेमैटोग्राफी काफी मदद करती नज़र आती है। संतोष थुंडियल बॉलीवुड के जाने-माने सिनमेटोग्राफर हैं। इनकी झोली में कुछ-कुछ होता है, कृष, राउडी राठौड़ और जय हो जैसी फिल्में रह चुकी हैं। इसके अलावा कई और फिल्में, डॉक्यूमेंट्री की सिनमेटोग्राफी संतोष अपने नाम कर चुकें हैं। 2012 में राउडी राठौड़ के लिए इन्हें फिल्मफेयर अवार्ड फंक्शन में बेस्ट सिनमेटोग्राफर के किताब से नवाजा जा चुका है। साथ ही 2005 और 2008 में भी इन्हें क्रमशः पलांकू और पिंजर के लिए सर्वश्रेष्ठ सिनमेटोग्राफर के अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

फ़िल्म का दिल है इसका टाइटल सॉन्ग ‘करतूतें।’ एक तरह से यह गाना अपने आप में पूरी फ़िल्म है। रफ़्तार के रैप ने गाने में जान फूंक दी है। करतूतें गाना रैप के चलन को तोड़ते हुए श्रोताओं और दर्शकों के बीच कुछ नया पेश कर चुका है। अभिनय की बात करें तो फ़िल्म में श्रेयष तलपड़े को विलेन की भूमिका में देखना एक बार के लिए हैरत में डालता है। कॉमेडी कैरेक्टर में लगातार श्रेयस को देखने के बाद भी आप फ़िल्म में विलेन के किरदार को श्रेयस से अलग नहीं कर पाते हैं। दूसरी तरफ एक और हैरत की बात है आफताब शिवदासानी को लंबे समय के बाद पर्दे पर वापस देखना। आफताब पुलिस के किरदार में पूरी से तरह से रमे हुए नज़र आते हैं। 

विजय राज का डायलॉग ‘अच्छे दिन आएंगे, अच्छे दिन आएंगे, हम तो इसी में पड़े रहे, अच्छे दिन तो तुम्हारे चल रहे हैं, खूब चल रहा है सेटिंग का धंधा’ ट्रेलर में महफ़िल लूटने का काम करता है। सोनाली सेगल भी अभिनय के साथ न्याय करने को कोशिश में सफल नज़र आती हैं। 3 मई को रिलीज़ होने वाली फ़िल्म सेटर्स छात्र तबके के बीच चर्चा का विषय बन चुका है। सरकारी नौकरियों की तैयारी करने वाले छात्र फ़िल्म के ट्रेलर से खुद को कनेक्ट कर पा रहें हैं। फ़िल्म के सफल होने का कारण भी दर्शकों के बीच बैठा युवा वर्ग ही होगा। फ़िल्म के ट्रेलर को 5 मिलियन से ज्यादा बार देखा जा चुका है। बॉक्स ऑफ़िस पर फ़िल्म के धूम मचाने की पूरी उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.