बिहार में कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण आज से शुरू, फ्रंट लाइन वर्कर्स को लगाया जाएगा टीका

खबरें बिहार की

पटना:बिहार के सभी 38 जिलों में दूसरे चरण का कोरोना टीकाकरण आज से शुरू हो रहा है। केंद्र सरकार के निर्देश के अनुसार पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों के टीकाकरण पूरे होने के पूर्व ही दूसरे चरण का टीकाकरण शुरू करने का निर्णय लिया गया है। दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर का टीकाकरण किया जाएगा।

इसमें पुलिस, सीआरपीएफ, एनडीआरएफ, होमगार्ड कर्मी, नगर निगम कर्मी, सैनिक, रेलवे, स्वास्थ्य शोध, ऊर्जा, मानव संसाधन आदि विभागों के कर्मियों का टीका लगेगा। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि राज्य में सात फरवरी तक दूसरे चरण के कोरोना टीकाकरण के लिए निबंधन होगा। राज्य में अबतक 1 लाख 99 हजार फ्रंटलाइन वर्कर का निबंधन दूसरे चरण के कोरोना टीकाकरण को लेकर किया गया है। इस संख्या में अभी बढ़ोतरी होगी। 

गौरतलब है कि पहले चरण में लक्ष्य का अब तक 56.70 फीसदी टीकाकरण हुआ है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि राज्य में अभी कोरोना वैक्सीन का 11 लाख डोज उपलब्ध है। जबकि पहले चरण के टीकाकरण को लेकर 4.62 लाख और दूसरे चरण के टीकाकरण के लिए 1.99 लाख कुल 6 लाख 61 हजार लाभार्थियों का निबंधन किया जा चुका है। वहीं, इनमें अब तक 2 लाख 62 हजार 784 लाभार्थियों का टीका लगाया जा चुका है। दूसरे चरण के टीकाकरण का कार्य वर्तमान टीकाकरण केंद्रों पर ही होगा, आवश्यकता के अनुरूप इसमें वृद्धि की जाएगी। 


 
पटना जिले में फिलहाल तीन स्थलों पर टीकाकरण
कोविड-19 टीकाकरण का दूसरा चरण शनिवार से शुरू होगा।  पटना जिले में फिलहाल तीन स्थलों पर इसकी शुरुआत होगी, जिसमें दानापुर अनंमुडलीय अस्पताल, बिहटा पीएचसी और एनडीआरएफ परिसर में सेंटर होगा। पटना जिला की सिविल सर्जन डॉ. विभा कुमारी सिंह ने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों के लिए चल रहा पहला चरण शुक्रवार को समाप्त हो गया लेकिन निजी अस्पताल के बहुत सारे स्वास्थ्य कर्मियों ने अभी तक टीका नहीं लगाया है। ऐसे लोगों के लिए एक दिन का समय बढ़ाया गया है। दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर का टीकाकरण शुरू होगा। प्रत्येक सेंटर के लिए एक दिन में 100-100 लोगों की सूची भेजी जा रही है। पटना जिला के टीकाकरण केन्द्रों की संख्या सोमवार से बढ़ायी जाएगी। सभी सरकारी अस्पतलों और स्वास्थ्य केन्द्रों पर टीकाकरण किया जाएगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.