रेलवे स्टेशन पर लगेगा बार कोट स्कैनर वाला गेट, अब नहीं मिल सकेगी बिना टिकट के एंट्री

राष्ट्रीय खबरें

अब बिना टिकट रेलवे स्टेशन परिसर में प्रवेश करना या बाहर निकलना मुश्किल होगा। मेट्रो स्टेशनों की तर्ज पर रेलवे भी एंट्री गेट पर स्वचालित टिकट जांच प्रणाली की व्यवस्था करने की तैयारी में है। नई व्यवस्था लागू होने के बाद टिकट के बार कोड का स्कैन होने के बाद ही कोई भी स्टेशन परिसर में प्रवेश कर सकता है या बाहर निकल सकता है।

रेलवे बोर्ड के एक अधिकारी के अनुसार इस टेक्नोलॉजी पर काम चल रहा है। इस योजना के लिए फिलहाल पहले चरण में करीब पांच करोड़ की राशि का भी प्रावधान किया गया है। गैर महानगरीय स्टेशनों पर सबसे पहले यह सुविधा शुरू होगी, क्योंकि वहां यात्रियों की आवाजाही कम होती है।


मेट्रो की तरह स्टेशनों पर बार कोड स्कैनर के साथ चलने वाले फ्लैप गेट लगेगा। इसका मकसद तेजी से टिकट की जांच करना और टिकट परीक्षकों और कलेक्टरों पर दबाव कम करना है। दिल्ली मेट्रो स्टेशनों पर इसके लिए एक्सेस कंट्रोल सिस्टम लगे हुए हैं। स्वचालित फ्लैप गेट प्रणाली से भीड़ के समय में तेजी से यात्रियों के प्रवेश करने और बाहर निकलने में सहूलियत होगी।

इस सिस्टम को लागू करने से पहले पूरे स्टेशन को हर तरफ से बंद किया जाएगा, ताकि कोई भी यात्री बिना टिकट के भाग नहीं पाए। इसके अलावा, बार कोडेड टिकट के लिए टिकट काउंटरों पर थर्मल प्रिंटर लगे होंगे।


बिना टिकट यात्रा करने वालों की वजह से रेलवे को हर दिन राजस्व का भारी नुकसान उठाना पड़ता है। ऐसे में रेलवे मेट्रो स्टेशनों की तरह टेक्नोलॉजी अपनाने की तैयारी में है। पूर्व मध्य रेल के एक अधिकारी ने बताया कि अभी नियमित रूप से बिना टिकट व अनुचित टिकट पर यात्रा करने वालों के खिलाफ अभियान चलाने के बावजूद लाखों लोग नजर बचा कर यात्रा करते हैं। इससे रेलवे को काफी नुकसान भी उठाना पड़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.