दो माह के अंदर मीरगंज के एक और बेटी का प्रतिष्ठित भारतीय विज्ञान कांग्रेस में चयन होने के बाद मीरगंज वासियों का सीना गर्व से चौड़ा हो गया है। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार के उपक्रम राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी संचार परिषद के सौजन्य से साइंस फॉर सोसायटी के तत्वावधान में आयोजित राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस 2019 के लिए मीरगंज की वर्ग अष्टम की छात्रा सानिका जमाल का चयन किया गया है। वे भारतीय विज्ञान कांग्रेस 2020 के लिए गोपालगंज जिले के तरफ से बिहार का प्रतिनिधित्व करेंगी। बिहार से भारतीय विज्ञान कांग्रेस में भाग लेने के लिए सिर्फ दो छात्राओं छात्राओं का चयन किया गया है जिसमें सानिया जमाल गोपालगंज से और अंशु कुमारी बांका जिले से शामिल है।
बेंगलुरु में आयोजित होगा
सानिका जमाल बेंगलुरु में 3-7 जनवरी 2020 को आयोजित होने जा रही अखिल भारतीय विज्ञान कांग्रेस में बिहार के तरफ से प्रतिनिधित्व करेगी।उसके परियोजना का विषय ‘’जंगली घासो का वैकल्पिक उपयोग’’ है। अपने परियोजना के विषय में सानिका ने बताया कि उसके समूह ने नीम की पत्ती, विशिष्ट जंगली घासो एवं कोयले के चूर्ण से से ऐसा पदार्थ का निर्माण किया है जो लोगों को नैसर्गिक एवं पर्यावरण अनुकूल ढंग से मच्छरों से निजात दिला सकता है। इसके साथ ही यह अन्य उपलब्ध मच्छर निरोधको से सस्ता और साइड इफेक्ट रहित है।


विद्यालय परिवार को मिली दोहरी खुशी
विद्यालय के निदेशक संजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि हमारे विद्यालय के लिए यह दूसरीशानदार सफलता है क्योंकि इसके पहले हमारे ही विद्यालय की छात्रा ज्योति मिश्रा का राष्ट्रीय विज्ञान बाल कांग्रेस 2019 के लिए पिछले माह ही चयन हुआ है और वह केरल के तिरुवंतपुरम मे होनेवाले आयोजन के लिए 27 दिसंबर को रवाना हो रही है।
मुझे अपनी बेटी पर है गर्वः पिता राशिद जमाल
प्रतिष्ठित पटाखा व्यवसायियों में से एक राशिद जमाल ने बताया कि वह शुरू से ही अपने बच्चों को पढ़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते। उन्होंने कहा कि उनकी दूसरी बेटी सानिका शुरू से ही पढ़ने में काफी जहीन रही है और उसकी मां जीनत जमाल और चाचा आसिफ जमाल उसे पढ़कर बेहतर करने के लिए मोटिवेट करते रहते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here