पटना सहित इन 8 जिलों में इस समय से शुरू होगा बालू खनन

खबरें बिहार की

Patna: काफी लम्बे समय से बिहार में बालू खनन की प्रक्रिया पर पूर्ण विराम लगा हुआ है. जिससे बालू के दाम भी आसमान छू रहे थे. लेकिन अब चरणवार तरीके से बालू खनन की प्रक्रिया शुरू की जा रही है, इसी कड़ी में हाल ही में 1 अक्टूबर से बिहार के विभिन्न जिलों में बालू खनन की शुरुआत हो गई है वहीं अब बिहार में राजधानी पटना सहित 8 जिलों में जल्द ही बालू खनन की प्रक्रिया शुरू होने वाली है इसको लेकर नीतीश कैबिनेट ने पहले ही खनन विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी हालांकि उसके बावजूद कैबिनेट का फैसला विभाग के पदाधिकारियों तक औपचारिक रूप से नहीं पहुँच पाया था जिसके कारण घाटों की नीलामी में देरी हो रही है.

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दे बिहार के 8 जिले पटना, सारण, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, गया, जमुई और लखीसराय जिलों में बालू घाटों की नीलामी की प्रक्रिया होनी है. राज्य कैबिनेट की सहमती मिलने के बाद खान एवम भूतत्व विभाग ने इस दिशा में तैयारियां शुरू कर दी है. जिसके बाद अब बालू घाटो का टेंडर 27 अक्टूबर को पूरा होने की संभावना है. इन 8 जिलों में बीते छह महीने से बालू खनन के काम पर पूरी तरीके से रोक लगा हुआ है. जिसको लेकर ही नए बंदोबस्तधारियों को बालू खनन की जिम्मेदारी मिलने पर स्थानीय लोगो को आसानी से उचित दाम पर बालू मिल सकेगा. इसके साथ ही सरकार को फिर से राजस्व भी मिलने लगेगा.

वहीं दूसरी तरफ एक अक्टूबर से आठ जिलों नवादा, अरवल, बांका, बेतिया मधेपुरा, किशनगंज, वैशाली और बक्सर में बालू खनन जारी है. हालांकि पटना सहित अन्य जिलों में बालू की कीमत प्रति सौ cft आठ से दस हज़ार रूपए है, जानकारों की माने तो बिहार राज्य खनन निगम लिमिटेड ने पटना, सारण, भोजपुर, औरंगाबाद, रोहतास, गया, जमुई और लखीसराय के बालू घाटों की बंदोबस्ती के लिए टेंडर निकाला है, इसके तहत एक एजेंसी को अधिकतम दो बालू घाटों या 200 हेक्टेयर में से जो कम हो उसकी बंदोबस्ती मिलेगी. टेंडर भरने की अंतिम तारीख 20 अक्टूबर को शाम पांच बजे तक है 21 अक्टूबर को इसकी तकनीति बिड खोला जायेगा.

जिससे की अब बिहार में बालू के दाम कम होने की उम्मीद जताई जा रही है. बिहार के खान मंत्री राम जनक राम ने भरोसा दिया है कि 1 अक्टूबर से रेत खनन का काम शुरू हो जायेगा. उसके बाद सरकारी दाम पर बालू मिलने लगेगी. ज्ञात हो बालू खनन पर रोक के चलते बालू बहुत ही महंगी बेचीं जा रही है रेत की कालाबाजारी भी जोरो पर है, बालू माफिया अनाप शानाप पैसो पर बालू बेचने का काम कर रहे है. बालू का खनन शुरू होने पर आमलोगों को राहत मिलेगी और कालाबाजारी पर रोक लगेगी.

 

आपको बता दे बालू खनन पर रोक बरसात के कारण लगाई गई थी. बहराल इसकी वजह से मार्केट में अवैध तरी के से काफ़ी महंगे बालू पर बालू बिकने लगी. आमलोग के साथ ही निर्माण उद्योग से जुड़े लोग खासे परेशान हुए. कहा गया है कि. खान विभाग सरकारी रेट पर बालू बेच रहा था, लेकिन ढुलाई के कारणवह काफी महंगी बिक रही थी. लोगों को बालू आसानी से मिली नहीं . इसकी वजह से निर्माण के काम भी बेहद धीमे हो गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *