rail engine run without driver

समस्तीपुर रेल मंडल के 688 KM रेल लाइन का होगा विद्युतिकरण, करोड़ों रूपये होगें खर्च

खबरें बिहार की

पटना: उत्तर बिहार के 15 जिलों से गुजरनेवाली समस्तीपुर रेल मंडल की आधे से अधिक रेलवे लाइनों पर अब डीजल इंजन के बजाय आने वाले दिनों में बिजली के इंजन से रेल पटरियों पर गाड़ियां दौड़ने लगेगी. इसके लिये रेलवे के सभी स्तरों से इस योजना को मंजूरी दे दी गयी है.  इस पर जल्द ही काम शुरू होगा. जिसके लिये 2132.6 रूपये खर्च होने का अनुमान है. दी गई विभागीय जानकारी में बताया गया है कि समस्तीपुर रेल मंडल को 337.60 करोड़ रूपये आवंटित भी कर दिये गये है. इसके पूर्ण होने पर समस्तीपुर रेल मंडल के लगभग 1400  किलोमीटर में फैले समस्तीपुर रेल मंडल का आधे से अधिक क्षेत्रों में डीजल इंजन के बजाय बिजली इंजन से ट्रेने चलने लगेगी.

बताया गया है कि इससे पूर्व इस रेल मंडल में 300 किलोमीटर विद्युतिकरण की योजना थी. लेकिन रेल बजट में रक्सौल-सितामढ़ी एवं समस्तीपुर-दरभंगा रेल लाईन को भी इसमें शामिल किया गया. जो 231 किलोमीटर का क्षेत्र बताया गया है. विभागीय स्तर पर यह भी जानकारी दी गयी है कि फिलहाल 100 करोड़ की लागत से समस्तीपुर-मधेपुरा रेल खंण्ड के मानसी-सहरसा-दौड़म मधेपुरा रेल रूट के 63.25 किलोमीटर में विद्युतिकरण का कार्य  चल रहा है.

इस रेल मंडल के जिन रेल खंडों का विद्युतिकरण किया जायेगा उसमें बालमिकीनगर-नरकटियागंज, सुगौली-मुजफ्फरपुर कुल 240 किलोमीटर शामिल है. इसी तरह दरभंग-जयनगर 59 किलोमीटर, रक्सौल-सीतामढ़ी , दरभंगा-समस्तीपुर 231 किलोमीटर का भी विद्युतिकरण करने का निर्णय लिया गया है.

इसी तरह समस्तीपुर-खगड़िया 85 किलोमीटर रेल खंड को भी विद्युतिकरण करने की योजना में शामिल कर लिया गया है. इस संबंध में पूछे जाने पर समस्तीपुर रेल मंडल के प्रबंधक आर. के जैन ने बताया कि उक्त रेल खंडों पर विद्युतिकरण के बाद  इस रेलमंडल के आधे से अधिक क्षेत्रों में बिजली इंजन से रेल गाड़ियां चलनी शुरू हो जायेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.