साहब के लिए बेड और गद्दा आया, चेयर भी; चंदा जुटाकर कर्मचारियों ने भरा बिल, दिलचस्‍प है ये वायरल स्‍क्रीन शाट

खबरें बिहार की जानकारी

सर के लिए बेड आया, चेयर भी आई थी। कौन-कौन इसके लिए पैसा दिया और कितना? जेई लोग अब पैसा नहीं देगा। अब एकाउंटेंट लोगों को ही खर्चा उठाना होगा। सरकारी विभाग के कर्मचारियों के वाट्सएप ग्रुप का ये स्‍क्रीनशाट तेजी से वायरल हो रहा है। मामला साहब की खरीदारी के बिल का भुगतान करने से संबंधित है।

शेखपुरा की फर्नीचर दुकान का है ये बिल

यह वायरल स्क्रीन शाट शेखपुरा जिले से संबंधित वाट्सएप ग्रुप के नाम से बना हुआ है। इसमें धर्मेश सिंह के नाम का बिल दिखाया जा रहा है। यह बिल शेखपुरा खांडपर की एक फर्नीचर दुकान का बताया जा रहा है। बिल के मुताबिक दुर्गा पलंग और गद्दे से लेकर मेज, कुर्सी की खरीद की गई है।

अफसर ने खरीदा सामान, कर्मचारी कर रहे भुगतान

वाट्सएप ग्रुप के चैट से यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि सरकारी विभाग के अफसर ने अपने लिए ये सारी चीजें खरीदी हैं लेकिन इसका भुगतान उनके मातहत कर्मचारियों को करना है। इसमें कुछ पैसा जुटा लिया गया है, लेकिन कुछ राशि कम पड़ रही है। अब वाट्सएप ग्रुप में बिल भुगतान करने को लेकर समूह में एक-दूसरे पर कर्मचारी आपस में ही दबाव बना रहे हैं।

आपस में चंदा कर बिल का भुगतान

 

 

निरंजन नाम के एक शख्‍स की ओर से कहा जा रहा है- सर का बेड, चेयर आया था कौन-कौन पैसा दिए और कितना, जेई लोग अब पैसा नहीं देगा। अकाउंटेंट को ही मिला कर देना होगा। इसके बाद मुरारी, अमरजीत, राहुल कुमार की ओर से इंटरनेट के माध्यम से बिल के भुगतान के लिए रुपये जमा करनेे का दावा किया जा रहा है।

अप्रैल महीने में हुई थी ये खरीदारी

मामले का स्क्रीनशॉट वायरल होने के बाद लोग काफी रुचि पूर्वक इसे पढ़ रहे हैं एवं अनुमान लगा रहे हैं कि यह किस विभाग के ग्रुप है। फिलहाल जिले के लिए यह वायरल स्क्रीनशॉट एक कौतूहल का विषय है। हालांकि वायरल स्क्रीनशॉट में अप्रैल माह का जिक्र है। फर्नीचर की रसीद भी अप्रैल माह की है। जागरण डाट काम इस वायरल स्‍क्रीन शाट और इसमें किए गए दावों की सत्‍यता की पुष्‍ट‍ि नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.