आरसीपी टैक्स कहते थे तेजस्वी, जमीन खरीद को लेकर जेडीयू के नोटिस पर आरजेडी बोली- उनका मामला, हम क्या बोलें

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार की राजनीति में हलचल मची हुई है। किसी समय में नीतीश कुमार के करीबी कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह ने पार्टी से चल रहे विवाद के बीच अपना इस्तीफा दे दिया है।  आरसीपी सिंह ने जदयू से ऐसे समय पर इस्तीफा दिया है, जब उनपर पार्टी के ही नेता भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं। खास बात है कि आरसीपी सिंह के इस्तीफे पर लालू प्रसाद यादव की राजद ने कुछ कमेंट न करते हुए इसे जेडीयू का अंदरूनी मसला बताया। जबकि तेजस्वी यादव अक्सर आरसीपी सिंह पर निशाना साधते आए हैं। यहां तक कि वे ये तक कह चुके हैं कि बिहार में लोगों से आरसीपी टैक्स वसूला जाता है।

आरसीपी सिंह के इस्तीफे से बिहार में राजनीतिक हलचल तो जोरों पर है लेकिन अभी तक विपक्षी दल या जेडीयू के किसी गठबंधन साथी जैसे भाजपा की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। हैरानी की बात राजद के लिए है, क्योंकि आरजेडी अक्सर आरसीपी पर हमलावर रहती थी, जब वे जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे।

बना सकते हैं नई पार्टी 
आरसीपी सिंह पर बिहार की कई जगहों पर अवैध प्रॉपर्टी और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया जा रहा है। इससे पहले भी आरसीपी के सुर जेडीयू से नहीं मेल खा रहे थे। इसी वजह से उन्हें जेडीयू से राज्यसभा नहीं भेजा गया, जिसकी वजह से उन्हें केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा। ऐसे में आखिरकार आरसीपी ने अपनी राह जेडीयू से अलग कर ली लेकिन वे सीधा किसी दूसरी पार्टी में जाने में नहीं बल्कि नई पार्टी बनाने के इरादे में हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.