रोहतास से लापता चार नाबालिग लड़कियां औरंगाबाद में मिलीं, मुखिया बोली-एक साथ इनका गायब होना बड़ी साजिश

खबरें बिहार की जानकारी

थाना क्षेत्र के धनाव पंचायत के मौना गांव से चार नाबालिग लड़कियां बुधवार की शाम लापता हो गई, जिन्हें देर रात लगभग डेढ़ बजे औरंगाबाद से बरामद किया गया। लड़कियां घर से घास काटने निकली थी लेकिन शाम तक घर नहीं लौटी।

13 साल की रौशनी पिता रुस्तम अली, सात साल रेहाना खातुन पिता मो. दिलशाद,11 साल गुलसबा पिता मो. सोनूऔर 13 सालसृ बेबी पिता लल्लू मंसूरी लापता हो गई थीं। परिजनों के अनुसार चारों लड़कियां गांव के ही ऊर्दू मध्य विद्यालय की छात्रा हैं, जो रोज की तरह स्कूल से आने के बाद बकरियों के लिए घास काटने निकली थीं, जो देर शाम तक घर नहीं लौटी। उसके बाद परिजन ने उन्हें ढूंढा लेकिन वे नहीं मिली।

बुधवार की देर रात कुछ लोगों ने चारों को धनाव गांव के समीप देखा तो परिजनों को सूचना दी। परिजन मौके पर पहुंचे लेकिन लड़किया नहीं मिलीं। जिसके बाद पुलिस की सूचना पर स्थानीय थाना के थानाध्यक्ष समेत एसडीपीओ शशिभूषण सिंह घटनास्थल पर पहुंचे और परिजनों से पूछताछ की।

एसडीपीओ ने चारों लड़कियों को ग्रामीणों की मदद से खोजबीन की और जीआरपी को भी सहायता के लिए सूचित किया। जिले के सभी थानों को सूचित कर सीमा पर पुलिस गहनता से छानबीन में जुट गई। एसपी विनीत कुमार ने बताया कि देर रात सभी चारों बच्चियों को समीपवर्ती जिला औरंगाबाद में देखा गया, जहां वहां की स्थानीय पुलिस को सूचना दी गई, तब लड़कियों को बरामद कर लिया गया।

बच्चियों ने पुलिस को बताया है कि वे बस से यहां पहुंची हैं। हालांकि, बच्चियां पुलिस को अभी विशेष जानकारी नहीं दे पाई हैं। पुलिस उन्हें लेकर नासरीगंज पहुंची और उन्हें परिजनों के हवाले कर दिया।

मुखिया बोली-बड़ी साजिश

धनाव पंचायत की मुखिया अफसाना खातुन ने बताया कि सभी लापता लड़कियां धनाव पंचायत के अंतर्गत मौना गांव के वार्ड एक की निवासी हैं। इस तरह सभी का लापता होना कोई बड़ी साजिश का नतीजा हो सकता है। उन्हें पुलिस से हर स्तर पर जांच के लिए अनुरोध किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *