पर्यटकों की संख्या में इजाफा देख केंद्र सरकार ने दी मंजूरी रोहतास के पर्यटन स्थल की सैर करेंगे देशभर के छात्र

खबरें बिहार की जानकारी मनोरंजन

पर्यटन के क्षेत्र में रोहतास जिले के लिए खुशखबरी है. एक भारत श्रेष्ठ भारत (ईबीएसबी) योजना के तहत विश्वविद्यालयों व कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए केंद्र सरकार द्वारा बिहार में पांच पर्यटन स्थलों की पहचान की गई है, उसमें रोहतास भी शामिल है. शिक्षा मंत्रालय ने पर्यटन मंत्रालय के साथ मिलकर देश के ऐसे सौ स्थलों की सूची तैयार की है, जहां छात्रों को भ्रमण के लिए ले जाया जा सकेगा. उनमें नालंदा, बोधगया, वैशाली, राजगीर के अलावे सासाराम भी शामिल हैं. पत्र में सासाराम को शामिल करने का वजह यहां पर्यटकों की बढ़ती संख्या बताया गया है.

 

शिक्षा मंत्रालय द्वारा हाल ही में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को सभी एचईआई को ईबीएसबी के तहत छात्रों को भेजने का निर्देश देने के लिए सूची सौंपी गई थी. शिक्षा मंत्रालय की इस पहल के बाद विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को पर्यटन स्थलों की इस सूची के साथ ही यह निर्देश दिया है कि वे राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सिफारिश को ध्यान में रखते हुए छात्रों को इन स्थलों के भ्रमण की योजना बनाएं. हालांकि, कोरोना प्रतिबंधों के हटने के बाद ही इस पर अमल करने का सुझाव दिया गया है.

 

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के मुताबिक इस पहल से छात्र ऐसे स्थलों के इतिहास, वैज्ञानिक योगदान, परंपराओं आदि से भी परिचित हो सकेंगे, जो अब तक वे किताबों में ही पढ़ते रहे हैं. छात्रों में भारत भ्रमण की जिज्ञासा भी बढ़ेगी. साथ ही इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा. वहीं नई पीढ़ी देश की समृद्ध विरासत, विविधता, संस्कृति, भाषा और ज्ञान से जुड़ेगी.

 

नीति में इस पूरी मुहिम को ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की योजना से जोड़ने का सुझाव भी दिया गया है. इसमें एक-दूसरे राज्य की संस्कृति और भाषा से छात्रों को परिचित कराया जाता है. गौरतलब है कि इस पहल से स्कूली बच्चों को भी जोड़ने की सिफारिश की गई है. रोहतास के जमुहार स्थित गोपाल नारायण सिंह विश्वविद्यालय के सचिव गोविंद नारायण सिंह ने कहा कि रोहतासवासियों के लिए बेहद सुखद समाचार है. इससे देश के विभिन्न राज्यों से आने वाले विद्यार्थियों को यहां के इतिहास एवं संस्कृति को जानने का मौका मिलेगा. साथ ही पर्यटन के दृष्टिकोण से देश के मानचित्र पटल पर ज्यादा मजबूत होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.