इस मॉडर्न मुखिया ने बदल दी अपने गांव की तकदीर, लोग कहते हैं-हर गांव को मिले ऐसी बहू

खबरें बिहार की

अब सीतामढ़ी के हर घर में शौचालय है और इनका उपयोग भी होता है। ऊबड़खाबड़ पगडंडी की जगह साफ सुथरी पक्की सड़के हैं। बच्चे-बच्चियां अंग्रेजी मीडियम स्कूल में पढ़ते हैं। ग्रामीणजन स्वास्थ्य, शिक्षा और अपने अधिकारों को लेकर सजग हैं।

एक सुशिक्षित महिला की ऊंची सोच और कड़ी मेहनत से यह बदलाव सिर्फ एक साल में संभव हो गया। बात हो रही है सीतामढ़ी बिहार के सोनबरसा प्रखंड की सिंहवाहिनी ग्राम पंचायत की। इस पंचायत में कुल छह गांव हैं। जिनमें विकास की धारा बह चली है। मुखिया रितु जायसवाल को अपने दायित्वों की पूर्ति के लिए ‘उच्च शिक्षित आदर्श युवा सरपंच’ के रूप में पुरस्कृत किया गया है।

दिल्ली में पली-बढ़ी रितु ने इकनॉमिक्स में बीए किया है। 17 साल पहले उनकी शादी इसी पंचायत के नरकटिया गांव में हुई थी। पति अरुण जायसवाल केंद्रीय सेवा में उच्च अधिकारी हैं। रितु जब भी ससुराल आतीं तो गांव में गंदगी, अशिक्षा, बीमारियों और पिछड़ेपन को देख काफी आहत होतीं। वे लोगों को जागरूक करने का काम करतीं।

यह सिलसिला यूं ही चलता रहा। 2016 में ग्रामीणों के आग्रह पर वे पंचायत चुनाव में खड़ी हुईं और भारी मतों से जीतीं। एक ही साल में उन्होंने बेहद नियोजित तरीके से पंचायत को विकास की मुख्यधारा में ला खड़ा किया। गांव के बच्चे अंग्रेजी मीडियम में पढ़ें लिखें, यह रितु का पहला लक्ष्य था।

इसके लिए उन्होंने गांव में अंग्रेजी माध्यम के स्कूल की शुरुआत की। इस प्राइमरी स्कूल में छह गांव के दो सौ से अधिक बच्चे नि:शुल्क पढ़ते हैं। इसका जिम्मा एक एनजीओ को सौंपा गया है। बच्चों को कॉपी, किताब और यूनिफार्म नि:शुल्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

रितु ने सड़क, बिजली और शौचालय जैसी मूलभूत सुविधाओं के लिए बहुत दौड़धूप की। असर यह हुआ कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत छह किमी लंबी सड़क आठ माह में बन गई। वहीं, हर घर में अब बिजली आ चुकी है। पहले प्राय: सभी लोग खुले में शौच को जाते थे। गरीबों के बच्चे अकसर बीमार पड़ जाते थे। इसके लिए मुखिया रितु जायसवाल ने स्वास्थ्य जागरूकता अभियान चलाया।

बीमारी की दूसरी बड़ी वजह यहां के भूजल स्तर का बेहद उथला होना था। रितु ने 21 नए पंप लगवाए, जिनकी गहराई ढाई सौ फुट है। कई स्वयंसेवी संस्थाएं यहां काम करने को राजी हो गई हैं। आंगनबाड़ी, शिक्षा और स्वास्थ्य योजनाओं में भ्रष्टाचार से आहत हूं।

जितना पैसा आता है, उसका सही उपयोग नहीं हो रहा है।सिंहवाहिनी के ग्रामीणों के विकास के लिए कंधे से कंधा मिला काम कर रही हैं मुखिया रितु जायसवाल। इस इलाके में पिछले दिनों बाढ़ ने कहर ढाया तो रितु ने ग्रामीणों की मदद के लिए हरसंभव प्रयास कर लोगों का दिल जीत लिया।

ग्रामीण बताते हैं कि रितु को ट्रैक्टर चलाना भी खूब आता है। किसानों की वे खेत जोतने में मदद करती हैं। दुरूह इलाकों में स्वयं बाइक चलाकर पहुंच जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.