पटना:  IPL के 32वें मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स ने राजस्थान रॉयल्स को 4 रन (DLS) से हरा दिया। इस मैच में दिल्ली की जीत के हीरो ऋषभ पंत साबित हुए जिन्होंने 69 रन की ताबड़तोड़ इनिंग खेली। जिसके बाद उन्हें ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ भी चुना गया। बता दें कि पिछले IPL सीजन के दौरान ऋषभ के पिता का देहांत हो गया था। इस घटना के कुछ दिन बाद पंत ने टूर्नामेंट ज्वॉइन कर लिया था और आते ही जबरदस्त परफॉर्म किया था।

– 20 साल के हो चुके ऋषभ पंत के पिता का नाम राजेंद्र पंत था। अप्रैल 2017 में रुड़की में हार्टअटैक की वजह से उनका निधन हो गया था। उस वक्त ऋषभ IPL खेलने में बिजी थे।

– पिता की मौत के बाद ऋषभ को लौटना पड़ गया था। अंतिम संस्कार के दौरान उनका हाथ भी झुलस गया था। हालांकि चार दिन बाद ही ऋषभ टीम के साथ फिर जुड़ गए थे।

– वे रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के साथ मैच से 11 घंटे पहले टीम के साथ जुड़े थे। मैच में उन्होंने 57 रन की इनिंग खेली थी। जिसमें उन्होंने चार छक्के और तीन चौके भी लगाए थे। अपनी इस इनिंग को ऋषभ ने पिता को समर्पित किया था।

ऐसा रहा क्रिकेट करियर

– ऋषभ पंत 2016 में हुए IPL के 9वें सीजन से लाइमलाइट में आए थे। उस वक्त उन्होंने दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम की ओर से डेब्यू करते हुए जबरदस्त परफॉर्म किया था।
– IPL के बाद जनवरी, 2017 में उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज के लिए टीम इंडिया में शामिल किया गया। सीरीज के आखिरी मैच में डेब्यू करते हुए उन्होंने 3 बॉल पर 5* रन बनाए थे।
– IPL के दौरान ही उनकी तुलना एमएस धोनी से होने लगी थी। बैटिंग और कीपिंग के कारण उन्हें धोनी का रिप्लेसमेंट तक कहा जाने लगा था।
– इसके बाद उन्हें वेस्ट इंडीज के खिलाफ एकमात्र टी20 मैच के लिए टीम इंडिया में शामिल किया गया। ऋषभ ने इस मैच में 35 बॉल्स में 38 रन बनाए थे।

मिले थे 1.9 करोड़ रुपए

– अंडर-19 वर्ल्ड कप में अपने बेहतरीन परफॉर्मेंस के दम पर ऋषभ ने इंडियन प्रीमियर लीग के 9वें सीजन में जगह बनाई थी।
– 10 लाख की बेस प्राइज वाले इस विकेटकीपर को 2016 में हुई ऑक्शन में दिल्ली डेयरडेविल्स ने 1.9 करोड़ की चौंकाने वाली कीमत पर खरीदा था।
– IPL-9 में दिल्ली डेयरडेविल्स की ओर से खेलते हुए उन्होंने 10 मैचों में 130 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट से 198 रन बनाए थे। ये उनका IPL डेब्यू था।


– पंत ने IPL के 10वें यानी पिछले सीजन में भी जबरदस्त परफॉर्मेंस दी थी। 14 मैचों में उन्होंने 166 के स्ट्राइक रेट से 366 रन बनाए थे।
– दिल्ली डेयरडेविल्स ने IPL 2018 सीजन के लिए जिन तीन प्लेयर्स को रिटेन किया था, ऋषभ पंत भी उनमें से एक हैं। इस सीजन में पंत 9 मैचों में 375 रन बना चुके हैं। 32वें मैच के बाद ओरेंज कैप उन्हें मिल गई थी।

सचिन-विराट की तरह कहानी

– बता दें कि ऋषभ की कहानी मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर और कप्तान विराट कोहली की तरह ही है। कोहली जब दिल्ली रणजी मैच खेल रहे थे तब उनके पिता का निधन हुआ था । उन्होंने सेन्चुरी लगाकर पिता को श्रद्धांजलि दी थी।

– वहीं इंग्लैंड में खेले गए 1999 वर्ल्ड कप के दौरान सचिन के पिता का निधन हो गया था। सचिन पिता के देहांत के चलते एक मैच नहीं खेल पाए थे लेकिन पिता के अंतिम संस्कार के बाद वे फौरन इंग्लैंड पहुंच गए थे। सचिन ने अगले ही मैच में केन्या के खिलाफ सेंचुरी लगाई थी।

 

क्रिकेट के लिए चार बार बदले स्टेट

– ऋषभ बचपन से ही क्रिकेट के लिए क्रेजी थे। हरिद्वार में जन्म हुआ। क्रिकेट कोच की तलाश में रुड़की से दिल्ली, राजस्थान और फिर वापस दिल्ली पहुंचे।

– एक वक्त राजस्थान क्रिकेट एकेडमी ने बाहर निकाल दिया था। फिर दिल्ली का रुख किया। अक्टूबर, 2015 में दिल्ली के लिए फर्स्ट क्लास डेब्यू किया। दिसंबर, 2015 में ही लिस्ट-ए डेब्यू किया।

डोमेस्टिक क्रिकेट में परफॉर्मेंस

– रिषभ रणजी में दिल्ली की ओर से खेलते हैं। वे 2016-17 रणजी में महाराष्ट्र के खिलाफ 308 रन की इनिंग खेल चुके हैं। इसके

साथ ही फर्स्ट क्लास क्रिकेट में ट्रिपल सेंचुरी लगाने वाले तीसरे यंगेस्ट क्रिकेटर हैं। नवंबर, 2016 में ऋषभ रणजी में फास्टेस्ट सेंचुरी

लगाने वाले प्लेयर बने। उन्होंने झारखंड के खिलाफ 48 बॉल में सेंचुरी लगाई थी। 2016-17 विजय हजारे ट्रॉफी के लिए उन्हें दिल्ली टीम का कप्तान भी बनाया गया था

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here