डिप्रेशन से जुड़े कुछ लक्षण और उनसे निपटने का तरीका

जागरूकता

डिप्रेशन शब्द तो आप सब ने सुना ही होगा जिसका अर्थ ‘अवसाद’ होता है। आप डिप्रेशन का शिकार तब बनते हो जब आप अपने अंदर जीवन की खुशियों को कायम नहीं रख पाते। इसका असर बहुत ही गहरा होता है। पहले तो ये आपके दिमाग पर असर करता है फिर धीरे-धीरे इसका असर शरीर पर भी दिखाई देने लग जाता है। अगर आप भी इसके शिकार हैं तो आपके साथ-साथ आपका शरीर भी इस परेशानी को झेलता है। आप अपने अंदर कोई ख़ुशी या उल्लास महसूस ही नहीं करते हैं, आप हर समय परेशांन और दुखी महसूस करते हैं और आपको ऐसा भी महसूस होगा कि आपने अपना उल्लास खो दिया है क्योंकि समय के साथ आप अजीब-सा बर्ताव करने लग जाते हैं। इसका असर इतना बुरा होता है कि आप लोगों से कटा-कटा सा फील करते हैं और आपके अन्दर जीने की इच्छा भी धीरे-धीरे कम होने लगती है।

Image result for depression

डिप्रेशन

डिप्रेशन का शिकार

डिप्रेशन एक प्रकार का शारीरिक पीड़ा है। अगर आप खुद ही अपने जीवन का आनंद नहीं, बोझ बन गए हैं तो इसकी वजह यह है कि आपकी ज़िन्दगी का काफी बड़ा हिस्सा आप कुछ सोचने, चिंतन और खुद को गलत साबित करने में बर्बाद कर रहे हैं। यह किसी बुरे हालत की वजह से घटित होता है। जब लाइफ में ऐसी सिचुएशन आती है जब आप चाह कर भी किसी चीज़ को नहीं बदल सकते और आप अपना जीवन विवश होकर गुज़ार रहे हैं तो ऐसे हालात में आपका डिप्रेशन का शिकार होना बहुत ही स्वाभाविक है क्योंकि हालात आपके काबू में नहीं होते। दुनिया में ऐसी बहुत सारी चीजें घटित होती हैं जिसमें गम हो जाना, खो जाना और दुखी होना स्वाभाविक है। आप उस सिचुएशन से जितना जुड़ाव महसूस करेंगे, उतना ही ज्यादा दुःख महसूस करेंगे।

Image result for depression

बहुत से लोग कुछ ज्यादा ही इमोशनल होते हैं जो अपने पर्सनल और प्रोफेशनल जीवन को संभाल नहीं पाते, और अपनी ज़िन्दगी से बोर और डिप्रेस्ड होने लग जाते हैं और जीवन के अलग-अलग पहलुओं से भागने लग जाते हैं। जब कोई चीज आप जैसा चाहते हैं उस हिसाब से नहीं चलती, तो आप अपने आप से और अपने लाइफ से दुखी होने लग जाते हैं। डिप्रेशन भी इंसान को तभी होता है जब आपकी चीजें  अपनी उम्मीदों के अनुसार पूरी नहीं होती हैं।

Image result for depression

बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं जो इंसान को डिप्रेशन में ले जाने के लिए असरदार हैं। अगर किसी ने पैसे लगायें हों स्टॉक मार्किट में और अगर आज स्टॉक मार्केट मंदा हो जाए, तो काफी सारे लोग डिप्रेशन में चले जाएंगे। स्टॉक मार्किट में पैसे लगाने के बाद बहुत सारे लोगों का मूड सिर्फ ग्राफ को ऊपर जाते देखते हुए ही उनका मूड भी हाई हो जाता है। वहीँ जब वे ग्राफ को गिरता हुआ देखते हैं तो उनका मूड भी गिरने लग जाता है। और इन सब की वजह सिर्फ यही है कि उन्होंने जैसी उम्मीद की थी, वैसा उसका परिणाम नहीं हुआ।

अपने अन्दर चल रहे गड़बड़ी को ठीक करना होगा

Related image

लोग कई तरह से डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं। अगर उनसे उनकी कीमती चीज़ छीन जाती हैं, तो वे डिप्रेस्ड हो जाएंगे और अगर वो चीज़ सचमुच बहुत खास है और उसके ना मिलने पर लोग डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं। उनकी सबसे बड़ी कमी यही होती है कि उनके पास सब कुछ होते हुए भी कुछ नहीं होता है। डिप्रेशन का मतलब है कि कोई-न-कोई निराशा जरुर घर कर गई है। अगर आप देश के कुछ गरीब हिस्सों में जाएं जो कि वाकई दरिद्र और काफी गरीब हैं, फिर भी आपको उनके चेहरे पर आनंद‍ या ख़ुशी दिखाई देगा क्योंकि उन्हें एक उम्मीद और आशा है कि उनका कल उनके आज से बेहतर होगा। लेकिन डिप्रेशन से ग्रसित लोगों को किसी भी चीज़ की कोई उम्मीद और आशा ही नहीं होती इसीलिए क्योंकि उन्हें पता होते हुए भी वो चीजें अपनी लाइफ में नहीं बदल सकते। उनके पास सब कुछ होते हुए भी वो अन्दर से बिलकुल खाली होते हैं।

Image result for depression

इंसान को हमेशा आशावादी होना चाहिए और खुद पर विश्वास रखना चाहिए। जैसे अच्छे दिन ज्यादा दिन तक नहीं टिकते वैसे ही बुरा वक़्त भी जल्दी ही बीत जाता है बस लोगों को अपने ऊपर थोड़ा विश्वास और धैर्य की जरुरत होती है। जिस दिन आपने अपने अन्दर की खुशियाँ पहचान लीं और उसे ठीक करने की कोशिश में लग जायेंगे तभी आपकी दुनिया वापिस से खूबसूरत हो जाएगी। आप डिप्रेशन से बाहर निकलने के लिए अध्यात्म, योग या कुछ टाइम अपने फॅमिली या फ्रेंड्स के साथ गुज़ार सकते हैं। ऐसा करने से आपको सच में काफी तरोताज़ा, रिलीफ और अच्छा महसूस करेंगे। ऐसी सिचुएशन में कभी हिम्मत ना हारें और पॉजिटिव फील करें और जिस काम से आपको ख़ुशी मिलती हो वो काम जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.