ऑफिस देर से पहुंचने पर सरकारी बाबू की सफाई, दफ्तर आने से पहले दबाने पड़ते हैं बीवी के पैर

कही-सुनी

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में वाणिज्य कर विभाग के एक स्टेनो का पत्र वायरल हो रहा है। स्टेनो ने ये पत्र इसलिए लिखा क्योंकि वह रोजाना ऑफिस देर से पहुंचता था, जिसको लेकर अधिकारियों ने उससे देर से आने की वजह पूछी थी। इसी के जवाब में लिपिक ने लिखित सफाई अधिकारियों को भेजी। लिपिक ने अपने पत्र में जो कुछ भी लिखा उसे देखकर अधिकारी भी चौंक गए। उन्हें भी विश्वास नहीं हुआ कि आखिर कोई ऐसा जवाब कैसे दे सकता है। आखिर स्टेनो ने क्या जवाब दिया बताते हैं आगे…

देर से आने पर स्टेनो से अधिकारियों ने लिखित में मांगा जवाब

 

पूरा मामला चित्रकूट का है,जहां पिछले कुछ समय से वाणिज्य कर विभाग में तैनात स्टेनो अशोक कुमार को ऑफिस पहुंचने में देरी हो जाती थी। इसी मामले में डिप्टी कमिश्नर वाणिज्यकर एमएस वर्मा ने स्टेनो अशोक कुमार से ऑफिस देर से आने को लेकर लिखित में जवाब देने के लिए कहा था। साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि क्यों न उनके खिलाफ देर से आने को लेकर कार्रवाई की जाए।

‘पत्नी का बदन दर्द करता है, हाथ-पैर मुझे दबाने पड़ते हैं’

डिप्टी कमिश्नर वाणिज्यकर एमएस वर्मा के सवाल पर ही स्टेनो अशोक कुमार ने पत्र लिखा। इस पत्र में उन्होंने कार्यालय देर से पहुंचने के कारणों की जानकारी दी। इसमें अशोक ने बताया कि बीमार बीवी की सेवा करने की वजह से देर होती है। ऑफिस आने से पहले खाना बनाना पड़ता है और रास्ता खराब होने की वजह से जाम में फंस जाते हैं जिससे देरी हो जाती है।

‘रोटी बनाओ तो जल जाती है और पत्नी गुस्सा हो जाती है’

स्टेनो अशोक कुमार ने पत्र में लिखा कि “महोदय, वर्तमान में मेरी पत्नी की तबीयत खराब रहती है और खाना मुझे ही बनाना पड़ता है। पत्नी का बदन दर्द करता है, इसलिए हाथ-पैर मुझे दबाने पड़ते हैं। क्योंकि रोटी थोड़ा संभल नहीं पा रही, बनाओ तो जल जाती है और पत्नी गुस्सा हो जाती है। आजकल मैं दलिया बनाकर खा रहा हूं। ऊपर से कमबख्त रोड भी बड़ी खराब है। अगर घर से पौने दस बजे निकलो तो जाम के कारण समय लग जाता है। अतः श्रीमानजी से निवेदन है कि कल से मैं थोड़ा और सुबह पत्नी की सेवा कर लूंगा और जल्दी निकलूंगा। बाकी साहब आप खुद समझदार हैं।” फिलहाल ये पत्र सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *