आरसीपी सिंह मंदिर-मठ, बाबा-दीदी, घाट-आश्रम की शरण में, मंत्रालय बचेगा या नहीं?

खबरें बिहार की जानकारी

केंद्रीय स्टील मंत्री और जेडीयू सांसद रामचंद्र प्रसाद सिंह उर्फ आरसीपी सिंह उत्तराखंड में मंदिर, मठ, आश्रम के दौरे कर रहे हैं और वहां बाबा और दीदी से आशीर्वाद ले रहे हैं। राजनीति में बिहार के सीएम नीतीश कुमार के उपकार से फिलहाल के लिए वंचित हो चुके आरसीपी सिंह अब आध्यात्मिक चमत्कार की ओर मुखातिब दिख रहे हैं। पिछले दो-तीन दिनों में उत्तराखंड के सरकारी दौरे के दौरान आरसीपी सिंह कम से कम 4 साधु-संतों और एक दीदी से मिल चुके हैं। ज्यादातर मुलाकात की फोटो उन्होंने खुद ही ट्वीट की है।

आरसीपी सिंह सबसे पहले योगगुरु बाबा रामदेव के पतंजलि आश्रम पहुंचे और बाबा के साथ तस्वीरें शेयर की। अगले दिन वो परमार्थ निकेतन के प्रमुख और आध्यात्मिक गुरु चिदानंद जी सरस्वती से मिले। उसके बाद आरसीपी सिंह हरिद्वार में जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज से मिले। फिर हरिद्वार में गायत्री परिवार की जीजी शैलबाला पंड्या जी मिले और उनका आशीर्वाद लिया। इसके बाद आरसीपी सिंह आशीर्वाद लेने निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि महाराज के पास गए। आरसीपी सिंह के उत्तराखंड दौरे की ट्वीटर पर शुरुआत बाबा रामदेव के साथ मुलाकात से हुई थी और उसका समापन बाबा रामदेव के साथ योग करने से हुआ। इन मेल-मुलाकातों से आरसीपी सिंह के लिए कोई चमत्कार होगा, ये अभी कहा नहीं जा सकता।

नरेंद्र मोदी कैबिनेट में आरसीपी सिंह की पारी कब तक चलेगी इसका फैसला 7 जुलाई के बाद या पहले भी हो सकता है। आरसीपी सिंह को नीतीश ने दोबारा राज्यसभा नहीं भेजा जिसकी वजह से वो 7 जुलाई को अपना टर्म पूरा होने के बाद सांसद नहीं रह जाएंगे। और सांसद नहीं रहते 6 महीने से ज्यादा मंत्री बने रहना संभव नहीं है। आरसीपी सिंह राजनीति में पहली बार इस तरह के संकट में फंसे हैं। जो आदमी कभी पार्टी चलाता था, आज उसकी में पूछ खत्म होने की कगार पर है।

जेडीयू की मौजूदा व्यवस्था में आरसीपी सिंह इस समय किस कदर अलग-थलग पड़ गए हैं इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 12 साल से पटना के जिस बंगले में वो रह रहे थे वो बंगाल भी उनको खाली करना पड़ेगा। विधान पार्षद संजय गांधी के नाम पर आवंटित इस बंगले में आरसीपी सिंह ही रहते थे जिसे अब राज्य के मुख्य सचिव को आवंटित कर दिया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.