अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर बिहार के बेटे और मिथिला के लाल रवि व्योम शंकर झा ने एक बार फिर वर्ल्ड रिकार्ड बनाया है। इससे पहले भी वे इस काम को दो बार दोहरा चुके हैं। बताया जा रहा है कि रवि जल में रहकर अगले 24 घंटे तक योग की मुद्रा में रहेंगे।

बताते चले कि पिछले साल भी मधुबनी के एक सपूत योगाचार्य रवि व्योम शंकर झा ने एक बार फिर विश्व पटल पर मिथिलांचल का नाम रोशन किया है। विश्व योग दिवस के मौके पर अहमदाबाद के डीजीएमसी मैदान में 18 से 21 जून तक चले कार्यक्रम में उन्होंने योग के ऊर्ध्व पद्मासन विधा में 40 मिनट का विश्व कीर्तिमान बनाया।

इससे पूर्व भी वे अपने प्रथम शीर्षासन में गत वर्ष योग दिवस के मौके पर हरियाणा के फरीदाबाद में हुए कार्यक्रम में योग गुरु बाबा रामदेव की मौजूदगी में शीर्षासन में 90मिनट का कीर्तिमान बना चुके हैं।

इनका नाम गत 19 जून को गोल्डेन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड्स में दर्ज हो गया है। बुधवार को गुजरात सरकार के द्वारा इन्हें पुरस्कृत किया गया। पतंजलि विश्वविद्यालय हरिद्वार की ओर से आयोजित कार्यक्रम में बाबा रामदेव भी मौजूद रहे।

मधुबनी जिले के बेनीपट्टी प्रखंड के ढंगा पश्चिम टोल निवासी श्रेष्ठ नारायण झा के 25 वर्षीय पुत्र रवि ने योग विज्ञान में वर्ष 2015 में पतंजलि विश्वविद्यालय से मास्टर डिग्री प्राप्त की है।

रवि ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पटना से वर्ष 2008 में मैट्रिक, 2010 में इंटरमीडिएट व वर्ष 2013 में मिथिला विश्व विद्यालय से हिन्दी में स्नातक ऑनर्स की परीक्षा उत्तीर्ण की है। इन्हें योग रत्न से भी सम्मानित किया जा चुका है।


फिलहाल वे दिल्ली में रहते हैं व गरीबों के लिये नि:शुल्क योग शिविर लगाकर उन्हें प्रशिक्षण देते हैं। रवि व्योम शंकर झा ने फोन पर बताया कि फिल्म स्टार आमीर खान भी उनसे प्रभावित हैं। आमिर की फिल्म दंगल में उनके व्यक्तिगत योग प्रशिक्षक रहे हैं।

मधुबनी जिले के सुदुर ग्रामीण क्षेत्र के रहने वाले रवि ने योग में दो-दो विश्व कीर्तिमान बनाकर मिथिलांचल ही नहीं बल्कि पूरे बिहार राज्य का नाम रोशन किया है। लोग उनकी सफलता से गौरवान्वित हैं। इसका श्रेय वे अपने माता-पिता व पतंजलि विश्वविद्यालय के गुरु व परम मित्र आनंद को देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here