हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि रामधारी सिंह दिनकर का जन्म 23 सितंबर 1908 को सिमरिया, ज़िला मुंगेर, बिहार  में एक सामान्य किसान के घर में हुआ था। रामधारी सिंह दिनकर एक ओजस्वी राष्ट्रभक्त कवि के रूप में जाने जाते थे। उनकी कविताओं में छायावादी युग का प्रभाव होने के कारण श्रृंगार के भी प्रमाण मिलते हैं।

दिनकर दो वर्ष के थे, जब उनके पिता का देहावसान हो गया। दिनकर के पिता एक साधारण किसान थे। दिनकर और उनके भाई-बहनों का पालन-पोषण उनकी विधवा माता ने किया। दिनकर का बचपन और यौवन देहात में बीता।

वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। उन्होंने इतिहास, दर्शनशास्त्र और राजनीति विज्ञान की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से की। उन्होंने संस्कृत, बांग्ला, अंग्रेजी और उर्दू का गहन अध्ययन किया था।

 

‘दिनकर’ स्वतन्त्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतन्त्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने गये। वे छायावादोत्तर कवियों की पहली पीढ़ी के कवि थे। एक ओर उनकी कविताओ में ओज, विद्रोह, आक्रोश और क्रान्ति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल श्रृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तियों का चरम उत्कर्ष हमें उनकी कुरुक्षेत्र और उर्वशी नामक कृतियों में मिलता है।

 

उर्वशी को भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार जबकि कुरुक्षेत्र को विश्व के 100 सर्वश्रेष्ठ काव्यों में ७४वाँ स्थान दिया गया।

मैं सोचता हूँ कि दिनकर की कविता में ऐसा क्या है जो हमें बार-बार आकर्षित करता है। वह है उनका खरापन, उनकी साफ़गोई और दिल खोल अंदाज़। उनकी कविता में गूँज और अनुगूँज बहुत है। दिनकर की कविताओं की सादगी बहुत प्रभावित करती है और कहन का तो कहना ही क्या?

उनकी कविताओं में जनजागरण की विशेष खूबी है। ये कवितायें अनपढ़ों, किसानों, मज़दूरों और छोटे-छोटे लोगों को भी पसंद आती है। उनका एक प्रिय कविता का नारा सभी को बहुत पसंद आता है और आकर्षित भी करता है। वह है- सिंहासन खाली करो कि जनता आती है।

इसमें कोई राजनैतिक पैटर्न नहीं है। एक सादगी है कि जो सरकार जनता के विश्वासों पर खरी नहीं उतरेगी। उसे सिंहासन खाली करना पड़ेगा। दिनकर जी से आप सहमत-असहमत हो सकते हैं लेकिन उनकी राष्ट्रीयता, उनका जनता के प्रति प्रेम और अगाध विश्वास दोनों लाजबाव हैं।

मुझे उनकी एक कविता बार-बार याद आती है वह हमारे समय के द्वन्द्वों को निरन्तर आलोकित भी करती है। दिनकर हमें बार-बार आगाह करने वाले और निरन्तर टेरने वाले रचनाकार हैं। उनकी कविता की पदचापें हमें हमेशा जागृत करती हैं। वह कविता है ‘आग की भीख’-

 

बेचैन है हवायें, सब ओर बेकली है

कोई नहीं बताता किश्ती किधर चली है।

मजधार है, भंवर है या पास किनारा?

यह नाश आ रहा है या सौभाग्य का सितारा?

 

मेरी दृष्टि में काव्यालोचन का क्षेत्र वीर पूजा का क्षेत्र नहीं होता। किसी भी रचनाकार का परीक्षण उसकी कृतियों, उसके समय की तमाम चुनौतियों, उसकी मान्यताओं और प्रतिक्रियाओं तथा विभिन्न विभीषिकाओं और विसंगतियों के आधार पर होता है।

हिन्दी साहित्यालोचन की एक विकट समस्या यह भी रही है कि उसमें या तो स्नेह, पूजा, श्रद्धा का घनत्व रहा है या घृणा और तिरस्कार का। श्रद्धा, पूजा अथवा घृणा के अतिरेक में न जाने कैसे-कैसे जुमलें प्रचलित हो जाते हैं और उन जुमलों को झांझ मंजीरे की तान के साथ गाया बजाया भी जाता है।

यह कीर्तनियां परम्परा कमोवेश अभी भी जारी है। आश्चर्य है कि असली मुद्दे लगभग गायब हो जाते हैं या उन्हें अनदेखा कर दिया जाता है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने कहा और रीतिकाल के अलग तरह के आचार्य कवि केशव ‘कठिन काव्य के प्रेत’ हो गये या ‘हृदयहीन’ हो गये।

तुलसीदास कुछ की नज़र में ‘लोकवादी’ हो गये तो किसी ने उन्हें ‘लोकनायक’ की संज्ञा दी और किसी ने उन्हें ‘समाज का पथभ्रष्टक’ तक कह डाला।

इस दौर की आलोचना के मुद्दे या सूत्र या तो डॉ. रामविलास शर्मा के निरीक्षण परीक्षण से चलते रहे हैं या डॉ. नामवर सिंह की मान्यताओं के परिप्रेक्ष्य में अथवा कुछ बीच की धारा के आलोचकों की कथन भांगिमाओं में। कुछ भाषा भंगिमाओं के लहजे में।

एक महत्वपूर्ण समस्या यह भी है कि या तो मुँह देखी हो रही है या लीपापोती अथवा उठाने और गिराने के खेल। मैं सोचता हूं कि इस तथ्य के सूत्र हमारी समकालीन आलोचना में खोजे जा सकते हैं।

दिनकर जी के बारे में कुछ इसी तरह के सूत्र हिन्दी आलोचना में बिखर गये हैं मसलन ‘युगचारण दिनकर’ ‘जनकवि दिनकर’ युगकवि दिनकर या ‘दिग्भ्रमित राष्ट्रकवि दिनकर।’

 

दिनकर की कविता के दो मुख्य स्वर हैं। पहला क्रांति, विद्रोह और राष्ट्रीयता दूसरा प्रेम और श्रृंगार। उनके व्यक्तित्व में रोमैंटिक मिज़ाज की निर्णयकारी भूमिका है। क्रांति विद्रोह और राष्ट्रीयता में भी रोमैंटिक स्थितियां होती हैं। प्रेम और श्रृंगार में रोमैंटिक भाव सरणि होती ही है।

यह भावभयता एक ऐसी धारा है जिसमें सब कुछ लुटाने की तमन्ना होती है। इसीलिये प्रेम करने वाला अपने प्रेम के लिये सब कुछ न्यौछावर करने को तैयार होता है। उसी तरह क्रांतिकारी और विद्रोही भी अपना सब कुछ समर्पण के लिये तैयार होता है।

क्रांतिकारियों के बलिदान एवं प्रेमियों के बलिदान इसके उदाहरण हैं। दिनकर की भावभयता में रोमैंटिक भावधारा की बहुत जबर्दस्त भूमिका हमेशा रही है। उनकी कविता के ताने-बाने में इसे सहज ही देखा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here