गेम ऑफ थ्रोन्स को पीछे छोड़ रामानंद सागर की ‘रामायण’ तोड़ा ने विश्व रिकॉर्ड तो खुश हुईं सीता उर्फ दीपिका चिखलिया

मनोरंजन

रामानंद सागर के लोकप्रिय धारावाहिक ‘रामायण’ को लगभग तीन दशकों बाद दोबारा टेलीविजन के पर्दे पर प्रसारित किया जा रहा है और अब यह दुनिया में सर्वाधिक देखे जाने वाला मनोरंजक कार्यक्रम बन गया है। कार्यक्रम के सीता के किरदार को निभाकर मशहूर हुईं अभिनेत्री दीपिका चिखलिया दर्शकों से मिल रहे इस प्यार से बेहद खुश हैं। उनका मानना है कि आज से तीस साल पहले इस मैजिक की शुरूआत हुई थी, जिसके चलते इसे दोबारा प्रसारित किए जाने पर इस कदर सफलता हासिल हुई।

गुरुवार को दूरदर्शन के आधिकार ट्विटर अकांउट से एक ट्वीट किया गया, जिसमें लिखा गया, “वल्र्ड रिकॉर्ड!! दूरदर्शन पर पुन: प्रसारित हैशटैगरामायण ने दुनियाभर में कई सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। 16 अप्रैल को 7.7 करोड़ दर्शकों के साथ यह शो सर्वाधिक देखे जाने वाला मनोरंजक कार्यक्रम बन गया है।” मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, व्यूअरशिप के मामले में इस शो ने मशहूर गेम ऑफ थ्रोन्स के रिकॉर्ड को भी पछाड़ दिया है।

दीपिका ने इस बारे में आईएएनएस को बताया, “मैं इस बात से वाकई में खुश हूं कि इसने ‘गेम ऑफ थ्रोन्स’ को पीछे कर दिया है। मेरे ख्याल से यह एक ऐसा कार्यक्रम है, जिसे सभी ने देखा है और जब मैं ‘रामायण’ को ‘गेम ऑफ थ्रोन्स’ का रिकॉर्ड तोड़ते हुए देखती हूं, तो मुझे इस बात की बेहद खुशी होती है। यह वाकई में एक अच्छी खबर है।”

इस सफलता के पीछे की वजह के बारे में बात करते हुए अभिनेत्री ने कहा, “मैंने इसका उतना विश्लेषण नहीं किया है। मैं कोई ऐसी इंसान नहीं हूं, जो बैठकर इसका विश्लेषण करूं। एक चीज जो तुरंत मेरे दिमाग में आती है, वह ये कि इसकी हमेशा से एक कहानी व एक पृष्ठभूमि रही है। इसकी अपनी एक विरासत रही है। जब लोगों ने इसे देखना शुरू किया, तो मुझे मैसेज कर वे कहने लगे कि अब हम भी इस विरासत व मैजिक का हिस्सा हैं।”

वह आगे कहती हैं, “तीस साल पहले जब इसकी शुरूआत हुई थी, तब भी लोगों ने इसे पसंद किया था। एक बार जब उन्होंने इसे देखना शुरू किया, तो इसकी अपनी एक अलग ही कशिश को महसूस किया। यह सीरीज अब अपने आप में मशहूर है और मेरा मानना है कि पुन: प्रसारण की यह सफलता इसकी वास्तविक सफलता के चलते है। मैं इसे इसी रूप में देखती हूं।”

Sources:-Hindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *