10 साल कैद, कोर्ट ने कहा अपराधी से VIP की तरह नहीं, पेश आएं अपराधी की तरह

ट्रेंडिंग

दुष्कर्म मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सोमवार (28 अगस्ते, 2017) को रोहतक के पास सुनारिया जेल में विशेष अदालत द्वारा सजा सुनाई गई। राम रहीम को 10 साल जेल में रहने की सजा सुनाई गई है। सुनारिया जेल में ही डेरा प्रमुख को रखा गया है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने शुक्रवार को डेरा प्रमुख को दुष्कर्म का दोषी ठहराया था।

बाबा को सजा देने के लिए रोहतक की जेल में स्पेशल कोर्ट लगाई गई। कोर्ट ने दोनों पक्षों के वकीलोंं को जिरह करने के लिए 10-10 मिनट का समय दिया।

सजा के ऐलान के बाद हिंसा की आशंका के मद्देनजर अर्धसैनिकबलों और हरियाणा पुलिस सहित सुरक्षाबलों ने जिला जेल परिसर को चारों ओर से घेर लिया है।

सबसे पहले CBI के वकील ने कोर्ट में अपना पक्ष रखते हुुए अधिक से अधिक सजा की मांग की । वहीं बचाव पक्ष के वकील ने कहा कि बाबा समाजसेवी हैं, उन्होंने लोगों के लिए काम किया है। बाबा राम रहीम भी कोर्ट के आगे रो पड़े और माफ करने को कहा।

CBI के स्पेशल जज जगदीप सिंह ने राम रहीम को सजा सुनाई। सजा सुनते ही राम रहीम का चेहरा पीला पड़ गया। अभी ये साफ नहीं है कि राम रहीम को रोहतक जेल में ही रखा जाएगा या कहीं और शिफ्ट करेंगे।

इस बीच उनकी अरबों रुपये के साम्राज्य के उत्तराधिकारी को लेकर डेरे के भीतर और बाहर चर्चाएं जोरों पर हैं। राम रहीम की दो बेटियां अमरप्रीत कौर इंसां, चरनप्रीत कौर इंसां और एक बेटा जसमीत सिंह इंसां हैं। इसके अलावा गुरमीत ने एक अन्य युवती को बेटी के तौर पर गोद ले रखा है, जिसका नाम है हनीप्रीत इंसां। डेरे से जुड़े लोगों की मानें तो अरबों रुपये के साम्राज्य पर हनीप्रीत का दावा सबसे मजबूत है। इसकी वजह यह है कि हनी डेरे के कामकाज में राम रहीम के काफी करीब रही हैं।

जसमीत सिंह इंसां: गुरमीत राम रहीम भले ही दुनिया में यह दावे करते रहे कि अनुयायियों के लिए उन्होंने परिवार का त्याग कर दिया है, लेकिन वह कभी फैमिली से दूर नहीं रहे। यहां तक कि 2007 में उन्होंने बेटे जसमीत इंसां को ही अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया था। हालांकि डेरे का एक नियम जसमीत की राह में रोड़ा बन सकता है, जिसके मुताबिक डेरा प्रमुख के परिवार का ही व्यक्ति उत्तराधिकारी नहीं हो सकता।

ब्रह्मचारी विपसना भी रेस में: डेरे में गुरमीत राम रहीम के बाद दूसरे नंबर पर मानी जाने वाली ब्रह्मचारी विपसना का दावा बेहद मजबूत माना जा रहा है। वह फिलहाल डेरे की चेयरपर्सन है और उसकी सामाजिक गतिविधियों का काम देखती है। विपसना गुरमीत के करीब होने के साथ ही, परिवार की सदस्य भी नहीं है। इसलिए उत्तराधिकारी के तौर पर उसका दावा मजबूत हो सकता है। डेरे के ही गर्ल्स कॉलेज से ग्रैजुएशन करने वाली विपसना के पास फिलहाल 250 लोगों की टीम है।

इसलिए मजबूत है हनीप्रीत इंसां का दावा: गुरमीत राम रहीम की गोद ली हुई बेटी हनीप्रीत इंसां को उत्तराधिकार की दौड़ में सबसे आगे माना जा रहा है। प्रियंका तनेजा से हनीप्रीत बनी हरियाणा के फतेहाबाद की इस युवती ने डेरा प्रमुख के साथ कई फिल्मों में भी काम किया है।

जज के फैसले की पांच बड़ी बातें:

1. राम रहीम के वकीलों की दलील को खारिज करते हुए जज ने कहा कि राम रहीम का दोष सामान्य नहीं है इसलिए उन्हें सजा दी जाएगी।

2. जज ने कहा कि दो साध्वियों के रेप के मामले में राम रहीम की सजा साथ चलेगी।

3. सीबीआई ने राम रहीम के लिए कोर्ट से अधिकतम सजा की मांग की थी लेकिन जज ने सीबीआई की अधिकतम सजा की दलील को भी ठुकरा दिया।

रोहतक LIVE:जज ने कहा-राम रहीम का दोष सामान्य नहीं, सुनाई 10 साल की सजा

4. जज ने बाबा को सश्रम की सजा सुनाई है। इसका मतलब बाब जेल में आम कैदियों की तरह ही रहेंगे। उन्हें भी जेल में काम करना पड़ेगा।

5. जज ने राम रहीम पर केवल बलात्कार ही नहीं IPC की अन्य धाराओं के तहत भी राम रहीम को सजा सुनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.