ये है राम रहीम की रहस्‍यमयी और आलीशान गुफा, यहीं लगा था यौन शोषण का आरोप

राष्ट्रीय खबरें

गुरमीत राम रहीम पर यौन शोषण का ये आरोप 15 साल पहले का है. उस समय पीड़िता ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भेजे लेटर में लिखा था कि राम रहीम ने उन्हें रात को अपनी गुफा में बुलाया था. आश्रम के लगभग बीचों-बीच कांच और दीवारों से बना एक भवन है, जिसे राम रहीम की गुफा कहा जाता है.

खास बातें:

  • करीब 100 एकड़ में फैलाा है गुरमीत राम रहीम का आश्रम
  • गुरमीत की 209 शिष्यायें खास तौर पर चुनी जाती हैं
  • शिष्याएं गुरमीत को खाना खिलाने, मुलाकात करवाने का काम करती हैं

साध्वी से यौन शोषण मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिया गयाा है. पंचकूला की सीबीआई कोर्ट ने शुक्रवार को यह फैसला सुनाया. यौन शोषण का ये आरोप 15 साल पहले का है.

उस समय पीड़िता ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भेजे लेटर में लिखा था कि राम रहीम ने उन्हें रात को अपनी गुफा में बुलाया था. इसी मामले में यह फैसला आया है. करीब 100 एकड़ में फैले गुरमीत राम रहीम के आश्रम के लगभग बीचों-बीच कांच और दीवारों से बना एक भवन है, जिसे राम रहीम की गुफा कहा जाता है. गुफा में जाने के लिए दो-तीन और दरवाजे हैं. जहां तक गुरमीत की गाड़ी सीधे जाती है.




मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, गुफा तक के रास्ते में हर जगह सादे कपड़ों में या फिर बकायदा कमांडो शैली में बंदूक लिए लोग तैनात हैं. राम रहीम की गुफा में शानदार सोफा और चमकदार पर्दों वाला हॉल है.यहां 209 शिष्यायें खास तौर पर चुनी जाती हैं. इन शिष्याओं में से कुछ को ही इस गुफा में आने का अधिकार है.

गुफा में जाने के लिए बाकायदा पहचान और बायोमीट्रिक सिस्टम है, तभी दरवाजे खुलते हैं. ये शिष्यायें किसी साध्वी की तरह खास गेरुआ या सफेद रंग के कपड़े पहनती हैं और अक्सर बाल खुले रखती हैं. इसके अलावा ये शिष्याएं गुरमीत को खाना खिलाने, मुलाकात करवाने, सुबह शाम स्टेज तक लाने का काम करती हैं.









राम रहीम के प्रवचन में भी बाईं तरफ इनके लिए एक खास जगह बनी होती है. प्रवचन वाले हॉल मे यही सब कुछ संभालती हैं और बाहरी हिस्से में दूसरे पुरुष कारसेवक काम करते हैं.

सूत्रों के अनुसार, इस गुफा में गुरमीत के लिए अलग से तैयार होने की जगह और खास लोगों से मिलने का कमरा भी है. यहीं से गुरमीत के पास कई देशों में सीधे बात करने के लिए हॉटलाइन भी है. इस पूरी गुफा में ऐशो-आराम की हर चीज मौजूद है. झाड़फानूस से लेकर शानदार बाथरुम तक.




इसके अलावा जिस गोल स्टेज में गुरमीत प्रवचन देता है. उसके नीचे पहिए लगे होते हैं और ऊपर एक हैंडल, जिससे मंच आगे और पीछे जाता है. बाबा भी उसी पर बैठकर सीधे एक चक्कर लगाते और वापस आ जाते. कपड़े भी खास डिजाइनर से चंडीगढ़ से बनकर आते हैं. चमकदार और शिफॉन से बने. राम रहीम के गुफा में एक एनआरआई गेस्ट हाउस भी है.

जहां पर शानदार सुईटस ही नहीं, स्विमिंग पूल और रिवॉल्विंग रेस्टोरेंट भी था. बिल्कुल मुंबई के एंबेसेडर होटल की तरह. इसके अलावा आश्रम में खुद के दो पेट्रोल पंप हैं. आश्रम की गाड़ियों को पर्ची पर सीधे पेट्रोल मिलता है. आश्रम में सब कुछ उगता है. दाल-चावल से लेकर आलू-टमाटर तक.




आश्रम में ही कई लोग शर्ट-पैंट और बाकी कपड़े सिलते हैं तो एक जगह पर मसाले भी बनते हैं यानि सब कुछ आश्रम में ही मिल जाता है बाहर जाने की जरुरत ही नहीं. आश्रम में अंदर घूमने के लिए बैटरी वाली कार भी हैं.

इतना ही नहीं आश्रम में एक विशाल वॉशिंग मशीन मौजूद है. किसी बड़े कुएं की तरह जिसमें एक बार में 10 से 15 हजार तक कपड़े धुल सकते हैं. इसे खास तौर पर बनवाया गया है. आश्रम में सीसीटीवी तो था ही इसके अलावा एक कंट्रोल रूम भी है जहां देश के तब के सारे चैनलों की मॉनिटरिंग और गुरमीत से संबंधित खबरों को रिकॉर्ड करने का सिस्टम भी था







Leave a Reply

Your email address will not be published.