अयोध्या नगरी में तब्दील हुई राम-मय पटना

कही-सुनी

रामनवमी को लेकर मंगलवार की रात से ही पूरा शहर हनूमानी ध्वजों व पताकाओं से पटा हुआ राममय हो गया। स्टेशन रोड से पूरा डाकबंगला क्षेत्र अयोध्या नगरी में तब्दील नजर आया।

महावीर मंदिर पटना जंक्शन का पट दर्शन के लिए मंगलवार की आधी रात के बाद दो बजे खोल दिया गया। मंदिर का पट खुलते ही ओम रां रामाय नम: का मंत्र जाप व हनुमान चालीसा का पाठ करते रामभक्त श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा। पूजन व दर्शन के लिए रात 8 बजे से ही भक्तों ने लाइन लगाना शुरू कर दिया था और रात दस बजे तक राम भक्तों की लाइन जीपीओ गोलंबर तक पहुंच गयी। वहीँ सुबह तक लाइन जीपीओ गोलंबर से आगे हार्डिंग पार्क तक बढ़ने लगी।

इलेक्ट्रानिक तोरणद्वार रामभक्तों का जगह-जगह स्वागत कर रहे हैं। एलईडी लाइटिंग में रामायण के प्रसंगों की झांकियां श्रद्धालुओं को आकर्षित कर रही हैं।

अयोध्या से पहुंचे पंडितों के दल द्वारा आधी रात के बाद महावीर मंदिर में भगवान का भव्य श्रृंगार और आरती करने के बाद मंदिर में रामभक्तों का प्रवेश आरम्भ हुआ। शहर के आसपास के क्षेत्रों से आए श्रद्धालु रात 8 बजे के आसपास ही लड्डू, माला व् अन्य पूजन की सामग्री लिए मंदिर में दर्शन के लिए लाइन में लगने लगे। पट खुलने की प्रतीक्षा में भक्त राम नाम का जाप के साथ हनूमान चालीसा,सुंदरकांड का पाठ करते रहे।

रामनवमी को लेकर मंदिर प्रशासन ने नई व्यवस्था की है। ऑर ब्लॉक के पास हार्डिंग पार्क में ही तीन स्टॉल बनाए जहाँ नैवेद्यम लड्डू, फूल-माला आदि पूजा सामाग्री खरीदने का प्रबंध किया है। साथ ही स्टेशन गोलंबर, इंकम टैक्स गोलंबर ,पटेल पथ के पास भी तीन स्टॉल हैं।

भीषण गर्मी में भक्तों को परेशानी न हो, इसलिए हार्डिंग पार्क में पंडाल बनाया गया है। अंदर ही अंदर दर्शनार्थियों के लाइन में लगकर पार्क के पूर्वी द्वार जीपीओं के पास निकलने की व्यवस्था है। धूप से बचाव के लिए मंदिर तक रोड पर शेड बनाए जा रहे हैं। साथ ही श्रद्धालुओं के लिए मंदिर प्रशासन की ओर से शर्बत आदि की व्यवस्था की गयी है।

मंदिर न्यास के प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल के मुताबिक़ इस बार 15 हजार से 20 हजार किलो नैवेद्यम लड्डू का इंतजाम हुआ है। स्टेशन रोड में लड्डू के निजी दुकान लगाने की मनाही के वाबजूद मंगलवार की रात कई निजी लड्डू की दुकानें हनुमानी ध्वजा के साथ लग गए। वहीं शासन ने मंदिर में सीसी टीवी कैमरे लगाए गए हैं जिससे बाहर लाइन में खड़े श्रद्धालु भी पूजन का सीधा प्रसारण देख सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.