राकेश दुबे को बनाया गया आरा का नया SP, बिहार सरकार ने कटिहार के DM कंवल तनुज का किया ट्रांसफर

खबरें बिहार की

Patna: कटिहार के डीएम कंवल तनुज को ट्रांसफर करते हुए सूचना एवं जनसंपर्क विभाग का निदेशक बनाया गया है। वे अगले आदेश तक बिहार संवाद समिति के प्रबंध निदेशक के अतिरिक्त प्रभार में भी रहेंगे। वहीं वित्त विभाग में अपर सचिव उदयन मिश्रा को उनकी जगह कटिहार का डीएम बनाया गया है। वहीं तिरहुत (मुजफ्फरपुर) प्रमंडल के कमिश्नर मनीष कुमार को दरभंगा प्रमंडल के कमिश्नर का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। 3 आईपीएस अधिकारियों का भी तबादला किया गया है। सीतामढ़ी और भोजपुर में नए एसपी की तैनाती की गई है। राज्यपाल के एडीसी व एटीएस के एसपी राकेश कुमार दुबे भोजपुर के एसपी बने हैं। सीतामढ़ी के एसपी अनिल कुमार वायरलेस में एसपी बने हैं। भोजपुर के एसपी हरकिशोर राय को सीतामढ़ी एसपी बने हैं।

42वीं बैच के बिहार पुलिस सेवा के अधिकारी से आइपीएस अधिकारी बने राकेश दुबे भोजपुर के 99वें नए एसपी के रूप में जिले की बागडोर संभालेंगे। वर्तमान में वे राज्यपाल के एडीसी थे। आतंकी निरोध दस्ता के भी एसपी के अतिरिक्त प्रभार में भी थे। वे छह साल तक सीबीआइ में भी रहे थे। वर्तमान एसपी हर किशोर राय का तबादला सीतामढ़ी के एसपी के रूप में हुआ है। बतौर एसपी राकेश दुबे का यह पहला जिला होगा। नए एसपी मूल रूप से झारखंड के देवघर जिले के निवासी हैं। हालांकि, वर्तमान में परिवार पटना के बोरिग रोड में रहता है। साल 2000 में वे बिहार पुलिस सेवा में आए थे। दिसंबर 2020 में आईपीएस में प्रमोशन मिला था। इनकी गिनती बिहार के तेज-तर्रार अफसरों में होती है। ये पटना में एएसपी व डीएसपी की भी जिम्मेवारी संभाल चुके हैं। उनकी शिक्षा-दीक्षा पटना से हुई है। एक-दो दिनों में योगदान देंगे।

भोजपुर से रहा हैं पुराना जुड़ाव : नए एसपी राकेश दुबे का भोजपुर जिला व पुलिस विभाग दोनों से पुराना जुड़ाव रहा है। उनके पिता एस.एन दुबे बिहार पुलिस में इंस्पेक्टर रहे थे। इस दौरान साल 1974-75 में उनके पिता की पोस्टिग भोजपुर के सहार थाना में हुई थी। उस समय सहार में अगलगी की घटना घटित हुई थी। इस नाते जिला से पुराना लगाव रहा है। नए एसपी की पत्नी गृहिणी रही है।

बालू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई को लेकर चर्चा में रहे आईपीएस हर किशोर : इधर, 2011 बैच के आईपीएस अधिकारी हर किशोर राय ने अगस्त 2020 में भोजपुर के 98वें एसपी के रूप में जिले की बागडोर संभाली थी। इस दौरान जिले में करीब नौ महीने का कार्यकाल रहा। इस दौरान बालू माफियों से लेकर सफेदपोशों पर कार्रवाई को लेकर हमेशा चर्चा में रहे थे। इससे पूर्व वे छपरा में सबसे लंबे समय तक एसपी रहे थे। अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई को लेकर याद किए जायेंगे।

Source: Daily Bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *