राजू और कांछी के मिलन ने लिख दिया इतिहास, पटना इस मामले में बन गया दुनिया में नंबर1

खबरें बिहार की

पटना : जू में इस बार राइनो ब्रीडिंग कंजर्वेशन सेंटर की मान्यता मिल गयी है, इसलिए राइनो के लिए बड़े पैमाने पर काम किया जा रहा है। यहां राइनो यानी गैंडा के संरक्षण में कोई कमी नहीं की जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि राइनो ब्रीडिंग कंजर्वेशन सेंटर मास्टर प्लान के अंदर का प्रोजेक्ट है, जिसकी मान्यता मिल गयी है।

हाल में इसकी मान्यता के साथ-साथ फंड भी पास हो गया है, इसलिए इस खास अवसर पर राइनो ब्रीडिंग कंजर्वेशन सेंटर का काम शुरू करने के लिए उद्घाटन किया गया।

पटना जू गैंडा के मामले में न सिर्फ देश में, बल्कि विश्व में नंबर वन पर काबिज है। दूसरे नंबर पर सेंटडियागो (अमेरिका) है। अपने देश के कई राज्यों में गैंडा की संख्या बहुत कम है। पटना जू में अभी राइनो की संख्या 12 है, जो बहुत बड़ी बात है। राइनो के बेहतर रख-रखाव व खासकर इसकी ब्रीडिंग के लिए यह सेंटर बनाया जा रहा है, ताकि प्रजनन प्रक्रिया सही तरीके से हो सके।

इस जू में राइनो की संख्या अन्य कई जू से अधिक है, इसलिए इस कार्य को बेहतर तरीके से पूरा किया जायेगा। पटना जू में कुछ दिनों पहले तक गैंडों की संख्या दस थी, जो अब 12 पहुंच गयी है। इनमें छह नर व छह मादा हैं। इधर, दो महीने में दो नये गैंडे का जन्म हुआ है। जानकारी के मुताबिक यहां 8 जुलाई को नर गैंडा तथा 26 जुलाई को एक मादा गैंडा का जन्म हुआ था।

दोनों गैंडा का स्वास्थ्य सही है। विश्व गैंडा दिवस पर इन दोनों का नामकरण किया गया है। नर गैंडा का नाम (शक्ति) और मादा गैंडा का नाम (राइन) रखा गया है। खास बात यह भी है कि अगले महीने तक एक और बच्चे का जन्म होने वाला है, जो कि जू के लिए खुशी की बात है। इसके बाद जू में गैंडों की संख्या 13 हो जायेगी।

पटना जू के गैंडे (तब से अब तक) 1- हड़ताली- जन्म (8-7-1988) उम्र- 28 साल- मादा 2- रानी- जन्म ( 6-7-1991) उम्र-25 साल- मादा 3- अयोध्या- जन्म ( 27-12-1991) उम्र 24 साल- नर 4- गौरी- जन्म (8-8-2002) उम्र 14 साल- मादा 5- गणेश- जन्म( 19-9-2004) उम्र 12 साल- नर 6-लाली- जन्म(13-12-2005) उम्र 11 साल- मादा 7- शक्तिराज- जन्म( 30-10-2007) उम्र 9 साल- नर 8- एलेक्सन- जन्म(6-4-2009) उम्र सात साल- मादा 9- जम्बो- जन्म(11-11-2011) उम्र पांच साल- नर 10 विद्युत- जन्म(6-9-2013) उम्र तीन साल- नर 11- शक्ति- जन्म(8-7-2017) उम्र दो महीना- नर 12- राइन- जन्म(26-7-2017) उम्र दो महीना- मादा क्या कहते हैं अधिकारी राइनो की देखरेख में कोई कमी नहीं है।

यहां हमेशा से राइनो की संरक्षण बेहतर रही है, इसलिए राइनो के मामले में इसका नाम विश्व स्तर पर है। इस खास कार्यक्रम में यहां कई अधिकारी आये हैं, जिनसे राइनो की देख-रेख व इसके प्रजनन से संबंधित कई तरह की बातों पर ध्यान दिया गया। कमलजीत सिंह, निदेशक, पटना जू

Leave a Reply

Your email address will not be published.