कभी गावं में करता था नाटक, आज दुनिया भर में इस बिहारी ने चार्ली चैपलिन टू बन मचाई धूम

एक बिहारी सब पर भारी

हॉलीवुड के महान कॉमेडियन चार्ली चैपलिन को तो आप सभी जरूर जानते होंगे। आज हम आपको इंडियन ‘चार्ली’ के बारे में बताने जा रहे हैं। हिंदुस्तान में भी एक एेसा शख्स है जो चार्ली चैपलिन-2 के नाम से वर्ल्ड में फेमस है।

नक्सल प्रभावित टेटिया बंबर प्रखंड के बंबर निवासी किसान लक्ष्मण प्रसाद सिंह और सुनीता सिंह के छोटे पुत्र राजन कुमार ने लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्डस में अपना नाम दर्ज कराया है।
अभी तक वे अमेरिका, लंदन, श्रीलंका, नेपाल सहित एक दर्जन देशों में शो कर चुके हैं। 2004 में उन्हें चार्ली चैपलिन द्वितीय का खिताब मिला।

सन 1979 में जन्मे और मूलत: बिहार के रहने वाले राजन कुमार ने बतौर एक्टर और पर्फोर्मिंग आर्टिस्ट अपना कॅरियर 1997 से शुरू किया था। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के परिवार में जन्म लेने के कुछ सालों बाद ही राजन ने अभिनय में कॅरियर बनाने सोच ली। अपने गांव की मंडली से मिली ये प्रसिद्धि अब कई देशों में धूम मचा रही है। अभिनय में निखार लाने के लिए उन्होंने पद्म विभूषित गुरु सत्यदेव दुबे का सान्निध्य लिया और थिएटर सहित टीवी व सिनेमा में अपनी एंट्री दर्ज करवाई।

राजन ने चार्ली चैपलिन के रूप में देश-विदेश में अब तक 4037 शो किए हैं जो 12 हजार से ज्यादा घंटों तक शो का रिकॉर्ड बना चुके हैं। राजन बताते हैं कि शुरू से ही गांव में आयोजित नाटकों में वे भाग लेते थे। चार्ली की भूमिका में आने के लिए तीन घंटे का वक्त सिर्फ मेकअप के लिए लगता है।


1998 में छऊ नृत्य के लिए उन्हें भारत सरकार की ओर से पुरस्कृत किया गया था। केरल में करली पैठू का भी प्रशिक्षण लिया। हिमाचल के थियेटर आर्ट से डिप्लोमा की डिग्री ली। 2000 में दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रॉमा से भी प्रशिक्षण प्राप्त किया।


राजन बताते हैं कि एक बार गांव में उनके दोस्तों ने उन्हें माइकल जैक्सन का किरदार निभाने की सलाह दी। इसके बाद उन्होंने माइकल जैक्सन तो नहीं, लेकिन चार्ली चैपलिन बनकर लोगों का मनोरंजन करने की बात ठान ली। बाद में उन्होंने चार्ली चैपलिन के गेटअप में अभिनय शुरू किया।


राजन हंसी का खजाना नो बहाना, हंसता बचपन सहित ताज महोत्सव व एफ्रो एशियन गेम्स में परफॉर्म कर चुके हैं। इसके अलावा शहर मसीहा नहीं, जुनूनी मर्डर, चार मुलाकातें, रफूचक्कर जैसी फिल्मों में भी उन्होंने काम किया है। टेलीविजन पर उन्होंने ये हवाएं, हीरो, लापतागंज, चिडि़याघर, सीआईडी में मजबूत चरित्र प्रस्तुत किया है।



ये रिकॉर्ड अब तक इनके नाम

गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड
लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड
छाउ डांस के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार
इंडियन बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड

राजन बताते हैं कि इस काम में परिवार वालों ने भी उनका हौसला बढ़ाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.