पूर्णिया की बेटी को देश का सलाम, बापू के नाम लिखी चिट्ठी को मिला फर्स्ट प्राइज

खबरें बिहार की

पटना : पूर्णिया के प्रभात कॉलोनी की रहने वाली अंजली कुमारी झा ने एक बार फिर जिले का मान बढ़ाया है। अंजली कुमारी झा को डाक विभाग के द्वारा आयोजित “प्रिय बापू आप मुझे प्रेरित करते हैं” पत्र लेखन प्रतियोगिता में 18 वर्ष से कम उम्र वर्ग में पूरे देश में मिला पहला स्थान प्राप्त किया है।

अंजली शहर के उर्स लाइन गर्ल्स हाई स्कूल की कक्षा 9 बी की छात्रा हैं। अंजली के पापा लालेंद्र कुमार झा एलआईसी के एजेंट हैं। जबकि उनकी मां सुधा झा एक हाउस वाईफ है। बापू को पत्र लिखने के बाद देश भर में फर्स्ट प्राइज मिलने के बाद अंजली ने बातचीत करते हुए अपने अनुभव शेयर करते हुए कहा कि यह मेरे लिए सबसे बड़े गर्व की बात थी कि महात्मा गांधी जी के 148 वें जन्मदिवस के अवसर पर उन्हें साबरमती आश्रम में यह सम्मान मिला।

देश भर में प्रथम पुरस्कार जीतने के बाद अंजली को ट्रॉफी, सर्टिफिकेट, फिलाटैलिक टिकट सेट के अलावा 50 हजार का नगद पुरस्कार भी प्रदान किया गया। अंजली बताती हैं कि गांधी जी की विचार धारा उसे हमेशा से प्रेरित करती है। जब उसे स्कूल में प्रतियोगिता के बारे में पता चल कि डाक विभाग के द्वारा प्रिय बापू आप मुझे प्रेरित करते है विषय पर प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है तो उनकी टीचर ने उसने प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रेरित किया।

अंजलि आगे बताती हैं कि गांधी जी खुद कहते थे कि जो बात आप बोल कर नहीं के सकते उसे पत्र के माध्यम से लोगों तक पहुंचानी चाहिए। जिसके बाद मैंने बापू के नाम पत्र लिखा। पहले तो मुझे यकीन ही नहीं था कि मुझे देश भर में पहला स्थान मिलेगा।

लेकिन जब पूर्णिया प्रमंडल के डाक अधीक्षक बीएल मिश्रा सर ने यह जानकारी दी कि मुझे 18 साल से कम आयु वर्ग में देश भर में पहला स्थान मिला है तब ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा। अवार्ड जीतने के बाद घर में ख़ुशी का माहौल था।
अंजली बताती हैं कि 2 अक्टूबर को साबरमती आश्रम में सम्मानित होना मेरे जिन्दगी का सबसे यादगार दिन रहा।

जैसे ही साबरमती आश्रम पहुंची तो ऐसा लगा कि मैं कोई सपना देख रही हूँ और जब मुझे अवार्ड मिला तब जाकर ऐसा लगा कि सपना पूरा हो गया।साबरमती आश्रम देख कर काफी अच्छा लगा। यहां आकर गांधी जी के बारे में और जानने और देखने का मौका मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.