potato price bihar

बिहार में गिर कर 1 रुपया 60 पैसे हुई आलू की कीमत

खबरें बिहार की

मुजफ्फरपुर में किसानों के आलू की कीमत एक रुपया 60 पैसे लगाई जा रही है। किसानों के कोल्ड स्टोरेज में रखे हजारों क्विंटल आलू बर्बाद होने से यह नौबत आई है। कोल्ड स्टोरेज के कुप्रबंधन के कारण किसानों को इस क्षति का सामना करना पड़ रहा है।

 

किसानों को एक तरफ कोल्ड स्टोरेज में बीजे के लिए रखे आलू गंवानी पड़ी है, तो वहीं दूसरी ओर कोल्ड स्टोरेज का मंहगा किराया भी देना पड़ा है। क्षतिपूर्त की मांग को लेकर आलू किसान पिछले 10 दिनों में तीन बार सड़क पर उतर चुके हैं।

मुजफ्फरपुर के आलू किसानों को इस बार भारी क्षति का सामना करना पड़ा रहा है। बोचहां के सरफुद्दीनपुर स्थित प्रभा कोल्ड स्टोरेज में रखी गई सारे आलू बर्बाद हो गए हैं। बोरे में बंद आलू में बड़ा-बड़ा जर्मिनेशन हो गया है। साथ ही आलू में नमी की मात्रा इतनी हो गई है कि अब न तो इसे बाजार ले जाया जा सकता है और न ही खेतों में बीज के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

potato price bihar

प्रभा कोल्ड स्टोरेज में दो हजार से अधिक किसानों ने करीब 30 हजार क्विंटल आलू मार्च माह में रखा था। इसमें से अधिकांश किसान कोल्ड स्टोरेज में रखे आलू को अक्टूवर-नवंबर माह में बीज के तौर पर इस्तेमाल करते हैं। एक तरफ किसानों से प्रति क्विंटल 290 रुपए की दर से कोल्ड स्टोरेज में किराया भी लिया गया, लेकिन सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं दी गई।

 

किसानों का आरोप है कि कोल्ड स्टोरेज में आलू के पट्टे को समय-समय पर देखरेख नहीं किया गया कारण आलू सड़ गए हैं। किसानों ने कोल्ड स्टोरेज के प्रबंधन के साथ ही सरकार से अविलंब क्षतिपूर्ति देने की मांग की है।

मुजफ्फरपुर में करीब तीस हजार हैक्टेयर क्षेत्र में आलू की खेती होती है, जिससे सीधे तौर पर 25 से 30 हजार किसान जुड़े हुए हैं। जिले में आलू के लिए बने 26 कोल्ड स्टोरेज में से सभी जगह आलू बर्बाद होने की कमोवेश शिकायत आ रही है। आलू किसानों की गोलबंदी से परेशान कोल्ड स्टोरेज संचालक ने कम बिजली आपूर्ति और बार-बार बिजली के कटने को आलू की खराबी के लिए जिम्मेवार बताया है।

बोचहां इलाके में बिजली आपूर्ति करने वाली कम्पनी एस्सेल को सारी गड़बड़ी का जिम्मेदार बताते हुए कोल्ड स्टोरेज संचालक इससे पल्ला झाड़ रहे हैं, जबकि कोल्ड स्टोरेज में रखे गये आलू का बीमा भी नहीं है। संचालक के अनुसार कोल्ड स्टोरेज के आलू का बीमा नमी के चलते क्षति होने पर नहीं होता है।

potato price bihar

आलू किसानों ने क्षतिपूर्ति की मांग के लिए सोमवार को मुजफ्फरपुर-दरभंगा एनएच 57 फोरलेन को जाम कर दिया। इससे पहले भी किसानों ने सड़क पर उतरकर प्रति क्विंटल 10 रूपया की मांग को लेकर प्रदर्शन किया था। किसानों ने 20 अक्टूबर तक क्षतिपूर्ति नहीं मिलने पर आन्दोलन तेज करने की चेतावनी प्रशासन को दिया है। साथ ही आलू की खेती से परहेज करने का भी किसानों ने मन बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.