पटना: बढ़ती ठंड में अब गर्माहट आने वाली है. कुल्हड़ की खुशबू, गर्म चाय की चुस्की और ट्रेन की छुक-छुक, अब जल्द ही एक ही प्लेटफॉर्म पर आने वाली हैं. रेलवे स्टेशन (Railways Station) पर चाय की तलब अब और बढ़ेगी क्योंकि, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ऐलान किया है कि देश के सभी रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ में चाय जल्द मिलेगी. कुल्हड़ अब स्टेशनों पर पिघलने वाली हानिकारक प्लास्टिक और कागज के टूटते, मुड़ते, भीगते कप से आपको राहत देने वाला है.

राजस्थान के अलवर के ढीगवाड़ा स्टेशन पर (Dhigavada Railway station) कुल्हड़ में चाय पीने के बाद रेल मंत्री (Piyush Goel) ने कहा, ‘कुल्हड़ में चाय पीने का स्वाद कुछ अलग ही होता है, पर्यावरण को भी बचाता है.’ फिलहाल 400 स्टेशनों पर कुल्हड़ वाली चाय मिल रही है. लेकिन जब कुल्हड़ देश सभी स्टेशनों पर पहुंचेगा तो प्लास्टिकमुक्त भारत की तरफ भी ये रेलवे का बड़ा कदम होगा.

साल 2004 से 16 सालों के इंतजार के बाद रेलवे स्टेशनों पर अब कुल्हड़ की वापसी हो रही है. पूर्व रेल मंत्री लालू यादव ने रेलवे में कुल्हड़ में चाय परोस कर सफर के दौरान चाय की चुस्की लेने वालों का मजा दोगुना कर दिया था. लेकिन 2014 आते-आते प्लास्टिक और कागज के कपों ने चुपके से कुल्हड़ को ओल्ड फैशन करार देते हुए स्टेशन से बाहर कर दिया.

सेल्फी वाली नई जेनेरेशन हो या तकिए के नीचे डायरी लिखकर सोने वाली जेनेरेशन, दोनों का प्यार कुल्हड़ से उतना ही है. दिल्ली, बनारस, लखनऊ, पटना और हैदराबाद में यूनिवर्सिटी कैंपस के आस-पास 30 साल पहले भी कुल्हड़ वाली चाय के दीवानों की लाइन लगती थी और आज भी लगती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here