पिता ने दरबान की नौकरी के लिए छोड़ा था बिहार, बेटा पांचवीं बार बना भाजपा का विधायक

खबरें बिहार की जानकारी

देश के पांच राज्‍यों में हुए विधानसभा चुनाव ने बिहार के लोगों को भी खुश होने का भरपूर मौका दिया है। दरअसल, इस चुनाव में कम से कम दो ऐसी शख्सियतें जीती हैं, जिनकी जड़ें आज भी बिहार में हैं। इनमें एक तो पंजाब की अमृतसर उत्‍तरी सीट से चुनाव जीतने वाले आम आदमी पार्टी के उम्‍मीदवार कुंवर विजय प्रताप सिंह हैं तो दूसरे हैं उत्‍तराखंड के गदरपुर विधानसभा क्षेत्र से जीतने वाले भाजपा के विधायक अरविंद पांडेय। ये दोनों ही नेता बिहार के गोपालगंज जिले के रहने वाले हैं। कुंवर विजय प्रताप सिंह तो भारतीय पुलिस सेवा में रहते हुए आइजी के पद से वीआरएस लेकर चुनाव लड़े और जीते।

देवभूमि उत्तराखंड में लगातार पांचवीं बार भाजपा का कमल खिलाने का कार्य गोपालगंज जिले के विजयीपुर प्रखंड के विजयीपुर गांव निवासी अरविंद पांडे ने किया है। इस दौरान दो विधानसभा सीटों पर उन्होंने मेजबानी की। कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे ने गदरपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर जीत की हैट्रिक लगाई है। इससे पार्टी में उनका कद बढ़ा है। वहीं, विजयीपुर प्रखंड के साथ गोपालगंज जिले के नाम भी रोशन हुआ है। उनकी लगातार पांचवीं जीत से इलाके में जश्न का महौल है। 2002 व 2007 के विधानसभा चुनावों में उन्होंने भाजपा के ही टिकट पर बाजपुर विधानसभा से लगातार जीत दर्ज की थी

पिछली बार धामी सरकार में अरविंद पांडे कैबिनेट मंत्री के रूप मे बेसिक शिक्षा, खेलकूद, पंचायती राज, युवा कल्याण, संस्कृत, शिक्षा, प्रौढ शिक्षा का कार्यभार संभालते थे। शीर्ष नेतृत्व ने उन्हें उत्तराखंड राज्य बनने के बाद पहली बार बाजपुर विधानसभा सीट से टिकट दिया था। इसमें वे पार्टी के विश्वास पर खरे उतरे। पुन: उन्हें 2007 में टिकट मिला और चुनाव जीत गए। 2012 में बाजपुर सीट अनुसूचित जाति-जनजाति के लिए सुरक्षित हो गई। तब उन्हें बगल के विधानसभा क्षेत्र गदरपुर से टिकट दिया गया। इसमें भी उन्होंने जीत दर्ज की। चौथी बार 2017 में गदरपुर से भारी मतों से चुनाव जीतने पर उन्हें मंत्रिमंडल में जगह देते हुए उनका कद बढ़ाया गया। इस बार के विधानसभा चुनाव में उन्होंने जीत हासिल कर लगताार पांचवीं बार पताका लहरा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.