ये चपरासी है करोड़पति, निकली 100 करोड़ की संपत्ति

राष्ट्रीय खबरें

आंध्र प्रदेश से एक बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां नेल्लोर परिवरहन विभाग का चपरासी करोड़पति निकला है। महज 40 हजार रुपये महीने की सैलरी वाले चपरासी के पास करीब 10 करोड़ की प्रॉपर्टी के कागजात देख भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) के अधिकारी दंग रह गए।

18 प्लॉट और 50 एकड़ खेती की जमीन खरीद रखी है।एसीबी की केंद्रीय जांच ईकाई ने उसे नेल्लूर से गिरफ्तार कर लिया। 100 करोड़ रूपए से अधिक की गैरकानूनी संपत्ति पाई गई है।

नेल्लूर के डिप्टी ट्रांसपोर्ट कमिश्नर के ऑफिस में सबॉर्डिटनेट कम अटेन्डेंट के रूप में काम करने वाले 55 वर्षीय के नरसिंह रेड्डी का वेतन करीब 40 हजार रुपये प्रति महीना है। हाल में जब उसने 18वां प्लॉट खरीदा तभी ACB अधिकारियों की नजर में आ गया।

रेड्डी को हाथ से बनने वाले चांदी के बर्तन बहुत पसंद हैं। उसने हाल में विजयवाड़ा के एक शोरूम में 7 किलो वजन के दर्जनों चांदी के बर्तन और अन्य सामान खरीदे थे।

मंगलवार को नेल्लूर में जब रेड्डी के घर ACB अधिकारियों ने छापा डाला तो उसके प्रॉपर्टी के कागजात देखकर वे दंग रहे गए। रेड्डी, उसकी पत्नी और परिजनों के नाम 18 प्लॉट के कागजात मिले।

इसके अलावा उसके पास 7.70 लाख रुपये की नकदी, बैंक खातों में जमा 20 लाख रुपए, 2 किलो सोने के जेवरात, एलआईसी में 1 करोड़ से ज्यादा का जमा और 50 एकड़ खेती के जमीन का पता चला। वह नेल्लूर शहर के एमवी अग्रहारम में 3,300 वर्ग फुट के दोमंजिला पेंटहाउस में रहता था।

नरसिम्हा रेड्डी ने 22 अक्टूबर, 1984 को एक अटेंडेंट की सरकरी नौकरी शुरु की थी। उस वक्त उसकी तनख्वाह 650 रु प्रति माह थी। वो नेल्लोर आरटीओ में 34 साल से नौकरी कर रहा है। अफसर के मुताबिक उसने नेल्लोर में 1992 से प्लॉट खरीदने शुरू कर दिए थे। इतना ही नहीं वो वह नेल्लूर शहर के एमवी अग्रहारम में 3,300 वर्ग फुट के दोमंजिला पेंटहाउस में रहता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.