बिहार की राजनीति में छात्रनेताओं की भूमिका पर कल होगी चर्चा, राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री भी करेंगे शिरकत

शिक्षा समाचार

कल 14 जून को श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ द्वारा आयोजित कार्यक्रम “बिहार की राजनीति में छात्रनेताओं की भूमिका सह छात्र संवाद” इन दिनों चर्चा में है। अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज के नेतृत्व में पहली बार पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ कोई इतनी बड़ी कार्यक्रम आयोजित करने जा रही है।

कार्यक्रम का मूल विषय बिहार की राजनीति में छात्रनेताओं की भूमिका होगी। क्योंकि बिहार से आजतक जितने भी शीर्ष नेता उभरे हैं उनमें पटना विश्वविद्यालय की छात्र राजनीति का खासा योगदान रहा है। कार्यक्रम का उद्धाटन राज्यपाल सत्यपाल मलिक करेंगे तो वहीं बतौर मुख्य और विशिष्ट अतिथि कार्यक्रम में मुख्यमंत्री एवं उपमुख्यमंत्री नीतीश कुमार और सुशील कुमार मोदी शिरकत करेंगे।

अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज ने इस कार्यक्रम को लेकर कई विश्वविद्यालयों का दौरा किया और वहाँ के नवनिर्वाचित प्रतिनिधियों को इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिये आमंत्रित किया। दिव्यांशु ने छात्रों के इस सम्मेलन के महत्ता को बताते हुए कहा कि जिस तरह से 35 वर्षों के बाद बिहार के विश्वविद्यालयों में छात्र राजनीति लौटी है उसे लोकतांत्रिक ढंग से आगे बढ़ाने और युवाओं को इसके लिये जागरूक करने में यह कार्यक्रम महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगी।


कार्यक्रम को लेकर एक विवाद का माहौल भी बनता जा रहा है जिसपर प्रतिक्रिया देते हुए दिव्यांशु ने कहा कि बड़ी संख्या में छात्र हमारे इस पहल का समर्थन कर रहे हैं तो कुछ लोग इसका विरोध भी कर रहे हैं। देश के लोकतंत्र ने उन्हें ये आज़ादी दी है। हमारा कार्यक्रम एक बेहतर दिशा में आगे बढ़े हम बस इसी ओर अपना ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।
कार्यक्रम के आयोजन समिति में पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ की उपाध्यक्ष योषिता पटवर्धन, महासचिव सुधांशु भूषण झा, जॉइंट सेक्रेटरी असजद चांद और कोषाध्यक्ष नीतीश पटेल शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.