पटना की पुलिस कितनी स्‍मार्ट, इन दो उदाहरणों से आसानी से समझ सकते हैं आप

जानकारी

बिहार की राजधानी पटना की पुलिस कितनी स्‍मार्ट है, इसका अंदाजा हाल की दो घटनाओं से आप भी लगा सकते हैं। दरअसल, पिछले दिनों शहर के सबसे प्रमुख मार्ग बेली रोड पर पटना हाई कोर्ट के पास एक कार ने ट्रैफिक पुलिस की महिला सिपाही को ही रौंद दिया। इस घटनाक्रम में कार सवार युवती और उसके साथी यानी दो लोगों को रोक भी लिया गया। कार चलाने वाले शख्‍स की पहचान भी हो गई। पता चला कि वह बालू का धंधा करता है। कार चलाने वाले ने लोगों से बात की और खुद को निर्दोष बताया। इतना सब कुछ होने के बावजूद पुलिस उसे पकड़ नहीं सकी। घटनास्‍थल से कार चलाने वाला भाग निकलने में सफल रहा, अलबत्‍ता अब पुलिस उसे जरूर तलाश रही है।

इसी तरह, दीघा थाना क्षेत्र में अटल पथ पर ओवरटेक कर उत्पाद विभाग के दारोगा कुश कुमार से नशे की हालत में मारपीट करने वाले बदमाशों की गाड़ी के मालिक का अब तक पता नहीं चल पाया है। मौके से आकाश और विकास की गिरफ्तारी हुई थी, जबकि उनके तीन साथी स्कार्पियो से भाग निकले थे। थानाध्यक्ष राज पांडेय ने बताया कि दारोगा ने घटना के वक्त वीडियो बनाया था, जिसमें स्कार्पियो का नंबर दिख रहा है। उससे गाड़ी मालिक की पहचान करने की कोशिश जारी है। वहीं, गिरफ्तार सगे भाई आकाश और विकास को जेल भेज दिया गया है।

ताते चलें कि रोहतास निवासी कुश कुमार उत्पाद विभाग में दारोगा हैं। वे अपनी निजी कार से दो दोस्तों और एक रिश्तेदार के साथ छपरा जा रहे थे। उनकी तैनाती वर्तमान में सारण जिले में हैं। कुश जैसे ही अटल पथ ओवरब्रिज पर पहुंचे कि एक युवक उनकी कार के सामने आ गया। उन्होंने कार रोक दी। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच तीखी नोक-झोंक हुई। कुश वहां से निकल गए। इसके बाद बदमाशों ने स्कार्पियो से उनका पीछा कर कार रोक दी और दारोगा के साथ मारपीट करने लगे। इस बीच दारोगा की सूचना पर दीघा थाना पुलिस की गश्ती जीप पहुंची और मौके से यदुवंशी नगर निवासी आकाश व विकास को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को देखते ही इनके तीन साथी स्कार्पियो से फरार हो गए। आकाश ने शराब पी रखी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.