पटना के मैनहोल के ढक्कन को लेकर उप मुख्यमंत्री ने दिया बड़ा आदेश, शिमला की तर्ज पर बनेगा गौरव पथ

जानकारी

 पटना नगर निगम और बुडको द्वारा क्रियान्वित योजनाओं की उप मुख्यमंत्री सह नगर विकास एवं आवास मंत्री ने शुक्रवार को समीक्षा की। नगर विकास एवं आवास विभाग के सभागार में हुई बैठक में उप मुख्यमंत्री ने निगम के अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि कहा कि पटना नगर निगम क्षेत्र के सभी मैनहोल के ढक्कन हर हाल में 15 दिनों के अंदर दुरुस्त कराएं।

उन्होंने कहा कि पटना नगर निगम और नगर विकास एवं आवास विभाग संयुक्त समन्वय के साथ निगम क्षेत्र के होल्डिंग्स के बारे में वर्तमान बाधाओं को दूर करने की दिशा में ठोस कार्रवाई करे। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार सरकार और केंद्र सरकार ने शहरी आबादी को बेहतर नगरीय सुविधा मुहैया कराने की दिशा में कई महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को शुरू किया है। इसके क्रियान्वयन से आम नागरिकों को बेहतर शहरी जन-जीवन प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि नगर निगम के क्षेत्र में शिमला के माल रोड अथवा गंगटोक के एमजी रोड की तर्ज पर गौरव पथ के विकास हेतु कार्ययोजना पर काम हो। उन्होंने कहा कि नगर निगम को विद्युत अधिभार शुल्क दिलाने तथा निविदा समिति की माह में नियमित बैठक आयोजित करने इत्यादि अन्य मुद्दों पर विभाग और नगर निगम यथाआवश्यक विधि सम्मत काम करे।

उन्होंने कहा कि पटना नगर निगम क्षेत्र के सभी छह अंचल में जल-जमाव से निजात हेतु 114 योजनाएं बनाई गई हैं, जिनकी प्राक्कलित राशि 133.56 करोड़ रुपये है। कदमकुआं में 5.88 करोड़ की लागत से वेंडिंग जोन के निर्माण की पहल शुरू की गई है, जिसमें पेयजल, लाइट, पार्किंग की सुविधा, मांस, सब्जी और अन्य विक्रेताओं के लिए व्यवस्था की जा रही है। इस योजना को पूर्ण करने का लक्ष्य नौ महीने का रखा गया है। बैरिया डंपसाइट पर कचरे का पृथक्करण और निपटारण जैव-खनन जैव-उपचार इत्यादि कार्यों के लिए व्यवस्था शुरू की गई है। इस परियोजना का 40 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो गया है। 15 मई 2022 तक इस योजना को पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।  पटना नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत शेष बचे 13 स्थानों पर जलापूर्ति वितरण प्रणाली, आरसीसी जल मीनार का निर्माण, पंप हाउस इत्यादि अन्य कार्यों को 136.76 करोड़ रुपये की लागत से पूर्ण किया जाना है, जो निविदा की प्रक्रिया में है। इस परियोजना के पूर्ण हो जाने से पटना नगर निगम के 27 वार्डों के 76,007 परिवार अ’छादित होंगे।

उप मुख्यमंत्री ने पटना नगर निगम की वैसी योजनाएं, जिनका क्रियान्वयन बुडको के माध्यम से किया जा रहा है, की भी समीक्षा की। बुडको के प्रबंध निदेशक द्वारा बताया गया कि सभी ड्रेनेज पंपिंग स्टेशनों पर पालीवार संवेदक एवं आपरेटरों की प्रतिनियुक्ति की गई है। वर्तमान वर्ष की तैयारी हेतु पंपों की मरम्मत एवं संपोषण कार्य प्रगति पर है तथा सभी स्थायी ड्रेनेज पंपिंग स्टेशनों पर सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए गए हैं। साथ ही, मुख्यालय द्वारा नियंत्रण कक्ष से इसकी सतत निगरानी की जा रही है। उप मुख्यमंत्री ने निर्देश देते हुए कहा कि मानसून के पूर्व सभी नाला की उड़ाही एवं सफाई ससमय पूर्ण करा ली जाए तथा शुरू की गई परियोजनाओं का कार्य निर्धारित लक्ष्यों के अनुरूप समय पर पूरा किए जाएं। बैठक के दौरान नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर, महापौर सीता साहू, उप महापौर रजनी देवी, नगर आयुक्त अनिमेश पाराशर और बुडको के प्रबंध निदेशक धर्मेंद्र कुमार के अलावा अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.