पटना के गांवों में बनेंगी ‘नेकी की दीवार’, गरीबों को कपड़ा, बर्तन, किताब समेत फ्री मिलेगा ये सामान

खबरें बिहार की जानकारी

राजधानी पटना के गांवों में जल्द ही नेकी की दीवार देखने को मिलेगी। पटना की कुल 309 पंचायतों में नेकी की दीवार बनाने का काम अगस्त से शुरू होगा। इस दीवार के पास लोग अपने घर के अनुपयोगी समान को रख सकते हैं जो जरूरतमंद लोगों के लिए काम आएगा। प्रत्येक दीवार को मधुबनी पेंटिंग से आकर्षक बनाया जाएगा। छह अगस्त को होने वाली जिला परिषद की बैठक में इस प्लान पर मुहर लगेगी।

नेकी की दीवार को चार फीट लंबा तथा छह फीट चौड़ा बनाया जाना है। उसके ऊपर प्लास्टिक का शेड लगाया जाएगा। शेड में हैंगर या सामान रखने के लिए टेबल रखा जाएगा। प्रत्येक जिला परिषद सदस्य की जिम्मेदारी होगी कि वह अपने-अपने क्षेत्र में नेकी की दीवार की रखरखाव को सुनिश्चित करे।

जिस पंचायत में नेकी का दीवार होगा वहां जिला पार्षद कुछ लोगों की टीम बनाकर उसे संचालित कराएंगे। यहां लोग कपड़ा, बर्तन, किताब, कॉपी, खाने पीने की सामग्री, टेबल, कुर्सी आदि रखा जा सकता है जो उनके घर में उपयोग में नहीं आ रहा है। नेकी की दीवार के पास रखी जाने वाली सामग्री ऐसे लोगों को मुफ्त दिया जाएगा, जिन्हें उसकी जरूरत है। खासकर गरीब तबके के लोग जो ऐसी सामग्री को पैसे के अभाव में नहीं खरीद पा रहे हैं।

जिला परिषद पटना की अध्यक्ष कुमारी स्तुति ने इस संबंध में कहा कि आजकल देखा जा रहा है कि लोग अपने घरों के अनुपयोगी सामग्री को जहां तहां फेंक देते हैं। यदि उसे गांव या पंचायत स्तर पर रखने की व्यवस्था कर दी जाए तो गरीब लोगों के लिए उपयोगी हो सकता है। विदेशों में अक्सर ऐसी व्यवस्था देखी जाती है। इसीलिए पटना में भी एक नई पहल की शुरुआत की जा रही है। यदि लोगों का सहयोग मिला तो कालांतर में प्रत्येक गांव में नेकी की दीवार देखने को मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.