पटना में प्रति व्यक्ति आय सबसे अधिक, शिवहर में सबसे कम; जानें दूसरे जिलों का हाल

खबरें बिहार की

Patna: बिहार में प्रति व्यक्ति आय को अगर पैमाना माना जाए तो पटना जिले में रहने वाले लोग प्रदेश में सबसे खुशहाल हैं। यहां के लोगों की प्रति व्यक्ति आय राज्य में सबसे ज्यादा एक लाख 31 हजार 64 रुपए हैं। इस मामले में शिवहर सबसे नीचे है। वहां के लोगों की सालाना औसत आय 19 हजार 592 रुपए है। इस तरह प्रदेश के सबसे अधिक प्रति व्यक्ति की सालाना औसत आमदनी और सबसे कम वाले जिलों में सालाना एक लाख 11 हजार 472 रुपए का अंतर है।

पटना में प्रति व्यक्ति आय शिवहर की सात गुनी है। बिहार के 2020-21 के आर्थिक सर्वेक्षण से इसका पता चलता है। हालांकि प्रति व्यक्ति आय के आधार पर जिलों की रैंकिंग 2019-20 के आधार पर की गई है। बेगूसराय, मुंगेर, भागलपुर और रोहतास जिले में प्रति व्यक्ति आय के मामले में प्रदेश की अगली कतार में हैं। इन जिलों में लोगों की सालाना औसत आमदनी क्रमश: 51 हजार 441 रुपए, 44 हजार 321 रुपए, 41 हजार 752 रुपए और 35 हजार 779 रुपए हैं।

इस हिसाब से प्रति व्यक्ति आय की रैंकिंग में सबसे आगे का जिला पटना और दूसरे पायदान पर स्थित मुंगेर में भी भारी अंतर है। इसी तरह प्रति व्यक्ति आय के निचले पायदान पर शिवहर के अलावा अररिया, सीतामढ़ी, पूर्वी चंपारण और मधुबनी जिले हैं। इन जिलों की सालाना प्रति व्यक्ति आय क्रमश: 20 हजार 613 रुपए, 22 हजार 119 रुपए, 22 हजार 306 रुपए और 22 हजार 636 रुपए है।

सबसे पिछड़े जिले

अररिया
शिवहर
बांका
किशनगंज
पश्चिम चंपारण

सबसे विकसित जिले

पटना
बेगूसराय
मुजफ्फरपुर
शेखपुरा

शीर्ष पांच जिले

जिला          आय

पटना           1,31,064 रुपए
बेगूसराय      51 हजार 441 रुपए
मुंगेर            44 हजार 321 रुपए
भागलपुर      41 हजार 752 रुपए
रोहतास        35 हजार 779 रुपए

पिछड़े 5 जिले

शिवहर 19 हजार 592 रुपए
अररिया 20 हजार 613 रुपए
सीतामढ़ी 22 हजार 119 रुपए
पूर्वी चंपारण 22 हजार 306 रुपए
मधुबनी 22 हजार 636 रुपए

पटना और मुजफ्फरपुर पेट्रोल खपत में आगे

पेट्रोल भी समृद्धि आंकने का अच्छा तरीका है। इस हिसाब से दो सबसे संपन्न जिले पटना और मुजफ्फरपुर हैं। वहीं दो सबसे पिछड़े जिले बांका और शिवहर हैं। लघु बचत के पैमाने पर प्रदेश में दो सबसे समृद्ध जिले पटना औऱ सारण हैं। सबसे पिछड़ा अररिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.