पर्यटकों का जनकपुर धाम में भव्य स्वागत, ट्रेन के पहुंचते सीताराम के जयघोष से गूंज उठा जनकपुरधाम स्टेशन

खबरें बिहार की जानकारी

भारत गौरव ट्रेन से आए पर्यटकों का गुरुवार को जनकपुरधाम स्टेशन पर भव्य स्वागत किया गया। पहली बार कोई पर्यटक ट्रेन जनकपुरधाम पहुंची थी। ट्रेन की 14 बोगियों में करीब पांच सौ पर्यटक थे। पर्यटकों के स्वागत के लिए मधेश प्रदेश के मुख्यमंत्री मो. लालबाबू राउत के नेतृत्व में दिग्गज मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने खुद पुष्पगुच्छ देकर यात्रियों का स्वागत किया गया। इस दौरान मां सीता व श्रीराम के जयघोष से पूरा वातावरण गूंज उठा।

दिल्ली से मंगलवार को खुली भारत गौरव पर्यटक ट्रेन अयोध्या और मधुबनी के जयनगर होते हुए गुरुवार दोपहर जनकपुरधाम पहुंची थी। ट्रेन से उतरकर पर्यटकों ने होटल में विश्राम किया, फिर जानकी मंदिर, राम मंदिर, जनक मंदिर सहित अन्य मठ मंदिरों के दर्शन किये। शाम में सभी गंगा आरती में शामिल हुए। पर्यटक एक-एक मंदिर का इतिहास जानने को उत्सुक थे।

सांस्कृति व लोक नृत्य का रखा गया कार्यक्रम

पर्यटकों के लिए जानकी मंदिर परिसर में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इसमें कलाकारों ने राम-सीता के विवाह उत्सव गीत के मिथिला के लोक नृत्य झिझिया, जट-जटिन, सामा चकेवा, डोमकच की प्रस्तुति से सभी को मुग्ध कर दिया।

धनुषाधाम के दर्शन के बाद सीतामढ़ी होंगे रवाना

धनुषाधाम के दर्शन के बाद पर्यटक शुक्रवार को यात्री बस से सीतामढ़ी के लिए निकलेंगे। वहां रामायण सर्किट से जुड़े स्थलों के दर्शन के पश्चात रात्रि में ट्रेन से वापस मुजफ्फरपुर होकर बनारस के लिए प्रस्थान करेंगे।

स्टेशन पर दिग्गजों को रहा जमावड़ा

स्टेशन पर यात्रियों के स्वागत के लिए मधेश प्रदेश के मुख्यमंत्री मो. लालबाबू राउत के नेतृत्व में दिग्गज भी मौजूथे थे। इनमें पर्यटन मंत्री शत्रुघ्न महतो, विधायक परमेश्वर साह, जनकपुरधाम के मेयर मनोज कुमार साह, काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास के कॉउंसलर प्रसन्ना श्रीवास्तव, भारतीय वाणिज्य दूतावास वीरगंज के वाणिज्य महादूत नीतेश कुमार, जानकी मंदिर के उत्तराधिकारी महंत राम रोशन दास बैष्णव, नेपाल रेलवे के महाप्रबंधक निरंजन झा, जनकपुर उद्योग वाणिज्य संघ के अध्यक्ष जीतेन्द्र महासेठ, विहिप के कार्यकर्ता, साधुसंत आदि शामिल थे।

पर्यटक बोले-जनकपुरवासियों के स्वागत से धन्य हो गए

मां सीता की धरती पर आकर सुकून मिला है। जनकपुरवासियों के स्वागत से धन्य हो गए। ये बातें भारत गौरव पर्यटक ट्रेन से जनकपुरधाम पहुंचे यात्री विश्वनाथ चौधरी ने कही। वे अपनी पत्नी पुष्पा चौधरी के साथ आए हैं। कोलकाता के रहने वाले विश्वनाथ ने बताया कि यहां के लोगों का व्यवहार बहुत अच्छा लगा। कोलकाता में व्यवसाय है। बच्चों को उसे संभालने के लिए देकर तीर्थ यात्रा पर निकले है। श्री चौधरी ने बताया कि पहली बार नेपाल आए है।

अहिल्या स्थान व गौतम कुंड का भी हो दर्शन

दिल्ली के नगर निगम के उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय से सेवानिवृत्त प्राचार्य सह मधुबनी के सुगौना निवासी हरे कृष्ण चौधरी ने बताया कि यहां आकर अच्छा लगा है। अगर इस पर्यटक ट्रेन का ठहराव कमतौल स्टेशन पर हो या सीतामढ़ी से ही अहिल्या स्थान व गौतम कुंड का कराया जाए तो अच्छा रहेगा। दोनों जगहों का रामायण से जुड़ाव है। वहीं सीतामढ़ी में पंथपाकर, हलेश्वर स्थान, जानकी मंदिर व पुनौराधाम का भी दर्शन के लिए एक रूट निर्धारित हो।

मंदिर के आसपास हो सफाई

तीर्थ यात्रियों ने कहा कि मंदिर का वातावरण काफी अच्छा है। लेकिन इसके आसपास गंदगी है। मद्य व मांस की बिक्री भी मंदिर के पास होती है। इसे बंद कर कहीं और शिफ्ट किया जाना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published.