“पूरा पटना साइकिल से घूमे हैं | वहा कोनवा पर चाय का दुकान और पंजाबी समोसे वाला था” – पंकज त्रिपाठी

एक बिहारी सब पर भारी बिहारी जुनून

 गैंग्स ऑफ वासेपुर, फुकरे और नील बटे सन्नाटा में अपनी दमदार भूमिका निभाने वाले पंकज त्रिपाठी बिहार के गोपालगंज के बेलसंड के रहने वाले हैं। यह कहा जाता है कि फिल्मों में भूमिका की लंबाई उनके लिये मायने नहीं रखता हैं।

पंकज त्रिपाठी सर आये माथा में गमछा लपेटले और हाथ में गरम गरम भुंजवा मौर्या लोक से ले कर आये थे, सबको खिलाये भी| पंकज त्रिपाठी सर के लिए सेल्फी लेना सबसे बढ़िया काम ,हमहू फोटो खिचवा लिए हैं

|आज एक बात जान के बड़ा अच्छा लगा एक महीना पहले पंकज त्रिपाठी सर सिगरेट पीना छोर दिए हैं|सही में एकदम बेजोड़ आदमी हैं हो

पंकज सर पटना में काफी दिन रहे हैं आज भी उनको पुरानी बातें बहुत अच्छे से याद है|वो बताते है वो पूरा पटना अपनी साइकिल से घुमा करते थे और समोसे,चाय का मज़ा खूब लेते थे |पटना में ग्रेजुएशन की पढाई करते करते थिएटर देखना उन्हें अच्छा लगने लगा और फिर वो करने लगे |पटना में 2001 तक वो रहे हैं आज भी उनका घर पटना में है जहा से वो थिएटर करना स्टार्ट किये हैं |

पंकज त्रिपाठी ने कहा कि मेरा यह सफर काफी इंटेरेस्टिंग है। सपनों से भरा यह सफर हैं। एक ऐसे गांव से निकल कर मुबई पहुंचना जहां आज भी बिजली और सड़क नहीं है। इस सफर में कई चुनौतियां सामने आईं। चुंकि बिहारियों में एक जज्बा होता कि वो आसानी से हार नहीं मानते हैं। उसी जज्बे ने हमे टिकाये रखा और लोग अब मानने लगे कि मैं ठीक ठाक एक्टिंग कर लेता हूं।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.