पहाड़ों पर बर्फबारी, सर्द हवाओं ने बढ़ाई गलन, मौसम विभाग का अलर्ट; अगले तीन दिन मुश्किल

खबरें बिहार की जानकारी

मकर संक्रांति के दिन राजधानी समेत प्रदेश के 20 जिलों के मौसम में उतार-चढ़ाव का क्रम रविवार को भी जारी रहा। पिछले तीन दिनों से इसमें जो सुधार दिख रहा था, वह क्रम रुक गया। तेज पछुआ की वजह से ठंड फिर बढ़ गई है। वहीं तापांतर में कमी के कारण कनकनी अधिक है। रविवार को फिर से सूर्य के दर्शन नहीं हुए। सुबह की शुरुआत कुहासा व कनकनी के साथ हुई। दिन चढ़ने के साथ ही पछुआ ने रफ्तार पकड़ी और अधिकतम तापमान में 6 डिग्री से ज्यादा गिरावट दर्ज की गई। कुछ जिलों में सूर्य निकलने के बाद भी ठंड की स्थिति बनी रही।

मौसम विज्ञानी की मानें तो उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों में भारी हिमपात के कारण प्रदेश के मौसम पर इसका प्रभाव पड़ेगा। अगले तीन दिनों के दौरान दिन व रात के तापमान में चार से छह डिग्री सेल्सियस की गिरावट आने से कई जिले शीतलहर की चपेट में आएंगे। वहीं, कोहरे की चादर में पूरा प्रदेश लिपटा रहेगा।

बर्फीली हवाओं की वजह से धूप का असर कम होगा

बिहार कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विभाग ने ठंड को लेकर अलर्ट जारी दिया है। उत्तर पश्चिम आर्कटिक से ठंडी जेट स्ट्रीम दिल्ली होते हुए उत्तर प्रदेश और बिहार में प्रवेश कर रही है। बर्फीली हवाओं की वजह से धूप का असर कम होगा। वातावरण में नमी रहेगी, जिसके कारण दिन के साथ रात के तापमान में गिरावट होगी। बताया गया कि इधर उच्च दबाव का क्षेत्र और बंगाल की खाड़ी से आने वाली नमी की वजह से कोहरे का प्रभाव रहेगा।

भागलपुर में सात डिग्री लुड़का पारा

पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी की वजह से भागलपुर में भी ठंड एक बार फिर से कंपकंपाने लगी है। एक दिन के अंदर जिले में अधिकतम पारा सात डिग्री लुढ़क गया है। आसमान में बादल छाए रहे। हालांकि कोहरे का असर कम हो गया है, तेज हवा और गलन ने फिर परेशानी बढ़ा दी है। शनिवार को जहां अधिकतम पारा 23 डिग्री सेल्सियस था, वहीं रविवार को यह घटकर 16.4 डिग्री हो गया। हालांकि न्यूनतम पारा सात डिग्री से बढ़कर नौ डिग्री सेल्सियस हो गया है। आठ किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से पछुआ हवा चल रही है, जिससे बर्फीली ठंड कहर ढा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.