out-station-students-beaten-by-local-at-wardha-hindi-university

बिहारी हो औकात में रहो नहीं तो रात में उठा ले जाउंगा…. ये महाराष्‍ट्र है।

राष्ट्रीय खबरें

वर्धा: मराठी के नाम पर महाराष्ट्र में उत्तर भारतीय लोगों पर हमले की वारदात नई नही है. भाषा और क्षेत्र के नाम पर यूपी और बिहार के लोगों पर कई बार हमला किये गए है. लेकिन नया मामला महाराष्ट्र के वर्धा स्थित महात्मा गाँधी अंतराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय का है. आरोप है कि यूनिवर्सिटी में बिहार के पढ़ने वाले छात्र चंद्रभूषण सिंह को बुरी तरह पीट कर जख्मी कर दिया गया है. साथ ही यह धमकी भी दी गयी है कि बिहारी हो औकात में रहो नहीं तो रात में उठा ले जाऊंगा, ये महाराष्ट्र है. आरोप है कि झगड़े की शुरुआत बिहारी और क्षेत्रवाद के नाम पर चंद्रभूषण सिंह को बौध भिक्षु छात्र धर्मवीर और रजनीश आंबेडकर द्वारा अपशब्द कहने के साथ हुआ. जिसका चंद्रभूषण ने विरोध किया. इससे नाराज बौध भिक्षु ने बाहरी लोगो के साथ हॉस्टल में आकर चंद्रभूषण को मारा पिटा. बाद में सीनियर छात्रों के हस्तक्षेप और चंद्रभूषण द्वारा माफ़ी मांगने पर उसे छोड़ा गया.

 मराठी के नाम पर महाराष्ट्र में उत्तर भारत के लोगों के पर हमला तो आम बात थी. जहां भाषा और क्षेत्र के नाम बिहारियों पर कई बार हमला किये गए है. लेकिन नया मामला महारष्ट्र के वर्धा स्थित महात्मा गाँधी अंतराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय का है. यूनिवर्सिटी में बिहार के पढ़ने वाले छात्र चंद्रभूषण सिंह को बुरी तरह पिट कर जख्मी कर दिया गया है और यह धमकी दिया गया है कि बिहारी हो औकात में रहो नहीं तो रात में उठा ले जाऊंगा, ये महारष्ट्र है

आरोपी छात्र रजनीश आंबेडकर स्थानीय लोगों के साथ

out-station-students-beaten-by-local-at-wardha-hindi-university

 

पुलिस दे रही स्थानीय छात्रों का साथ 

महाराष्ट्र से बाहर के छात्रों का आरोप है कि स्थानीय लोगों और छात्रों के दबाब में पुलिस बिना अनुमति के ही महात्मा गाँधी अंतराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के हॉस्टल में आकर बाहरी छात्रों को परेशान करने लगी. जिसका हॉस्टल में रहने वाले छात्रों ने कड़ा विरोध किया. विरोध देख कर पुलिस ने हॉस्टल में आने की अनुमति नहीं होने की बात स्वीकारी. जिसके बाद छात्रों ने महाराष्ट्र पुलिस अध्यक्ष को चिट्ठी लिख कर मामले की जाँच करने का निवेदन किया है. बाहरी छात्रों का आरोप है कि पुलिस दोषी को पकड़ने के बजाय स्थानीय छात्रों का साथ दे रही है.

out-station-students-beaten-by-local-at-wardha-hindi-university

 मराठी के नाम पर महाराष्ट्र में उत्तर भारत के लोगों के पर हमला तो आम बात थी. जहां भाषा और क्षेत्र के नाम बिहारियों पर कई बार हमला किये गए है. लेकिन नया मामला महारष्ट्र के वर्धा स्थित महात्मा गाँधी अंतराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय का है. यूनिवर्सिटी में बिहार के पढ़ने वाले छात्र चंद्रभूषण सिंह को बुरी तरह पिट कर जख्मी कर दिया गया है और यह धमकी दिया गया है कि बिहारी हो औकात में रहो नहीं तो रात में उठा ले जाऊंगा, ये महारष्ट्र है

हॉस्टल में रहने वाले बाहरी छात्रों द्वारा पुलिस का घेराव

 

कुलपति ने जाँच समिति की गठित 

मराठी के नाम पर महाराष्ट्र में उत्तर भारत के लोगों के पर हमला तो आम बात थी. जहां भाषा और क्षेत्र के नाम बिहारियों पर कई बार हमला किये गए है. लेकिन नया मामला महारष्ट्र के वर्धा स्थित महात्मा गाँधी अंतराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय का है. यूनिवर्सिटी में बिहार के पढ़ने वाले छात्र चंद्रभूषण सिंह को बुरी तरह पिट कर जख्मी कर दिया गया है और यह धमकी दिया गया है कि बिहारी हो औकात में रहो नहीं तो रात में उठा ले जाऊंगा, ये महारष्ट्र है

कुलपति की चिट्ठी

 

बाहरी छात्रों पर हुए हमले और यूनिवर्सिटी में भय के माहौल की जाँच के लिए कुलपति ने एक जाँच समिति गठित किया है. इस जाँच समिति में 5 लोग शामिल है. जाँच समिति को 15 दिन के अंदर पुरे मामले की रिपोर्ट देने को कहा गया है.

बाहरी छात्रों में भय का माहौल 

इस घटना के बाद स्थानीय छात्रों के दबंगई से बाहरी और विदेशी छात्रों में भय का माहौल है. खासकर बिहारी छात्रों में क्योंकि उन्हें विशेष तौर पर टारगेट कर के हमला किया जा सकता है. गौरतलब है कि देश का पहला अंतर्राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय होने के कारण विदेशी छात्र भी बड़ी संख्यां में पढ़ते है. जिसमें ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी , श्रीलंका, नेपाल, जापान, थाईलैंड और चीन के छात्र यहाँ हिंदी की पढाई के लिए रहते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.