व्रत व आराधना से बनते हैं ये कामहिंदू धर्म में हर दिन का संबंध क‍िसी न क‍िसी देवता है। ऐसे में गुरुवार का द‍िन भगवान विष्णु और मां सरस्वती से जुड़ा माना जाता है। शास्‍त्रों के मुताबि‍क इस द‍िन भगवान व‍िष्‍णु की सच्‍चे मन से पूजा-अर्चना व व्रत करने से जीवन में खुश‍ियों का आगमन होता है। ज‍िन लोगों का व‍िवाह नहीं हो रहा है या फ‍िर ज‍िन लोगों को आर्थिक व मानसिक समस्‍याएं हैं। ऐसे लोगों को गुरुवार के द‍िन भगवान व‍िष्‍णु के साथ केले के पेड़ की पूजा करनी चाह‍िए। इससे व‍िष्‍णु जी जल्‍दी प्रसन्‍न होंगे और उनकी हर मुराद पूरी करेंगे।

केले के पेड़ और व‍िष्‍णु जी की पूजा

गुरुवार को स्‍नान के बाद सबसे पहले व‍िष्‍णु भगवान का ध्‍यान करें। इसके बाद फ‍िर केले के पेड़ के पास भगवान व‍िष्‍णु की कोई एक तस्‍वीर या फ‍िर प्रति‍मा रखें। व‍िष्‍णु जी व केले के वृक्ष पर जल व पुष्‍प चढ़ाएं। इसके बाद फ‍िर जनेऊ, फल, वस्‍त्र आद‍ि चढ़ाने के साथ ही कोई न कोई मिठाई व‍िष्‍णु जी को अर्पि‍त करें। पूजन में गुड़-चना या फि‍र बेसन का लडडू चढ़ाना शुभ माना जाता है। इसके बाद गरुवार व्रत की कथा पढ़ें व घी के दीपक से आरती करें। अंत में प्रसाद खुद चखें और अन्‍य लोगों में भी बांट दें। 

गुरुवार के द‍िन जरूर करें ये उपाय

गुरुवार को पीले वस्‍त्र धारण करना शुभ माना जाता है क्‍योंक‍ि विष्णु जी को पीला रंग बहुत प्रिय है। 

इस द‍िन पीली वस्‍तुओं का दान देना शुभ होता है। इससे मन को शांति और घर में समृद्धि आती है। 

व्रत रखने वाले इस द‍िन नमक न खाएं। इस द‍िन पीली चीजों का सेवन करना अनि‍वार्य होता है। 

गुरुवार के दिन नहाने वाले पानी में एक चुटकी हल्दी डालकर उससे स्‍नान करना लाभकारी होता है। 

इस दिन उधार धन देने से बचें। इससे गुरु मजबूत होगा और आर्थि‍क स्‍थ‍ित‍ियां काफी अच्‍छी होंगी।

Sources:-Dainik Jagran

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here