शिक्षक बहाली में फर्जी सर्टिफिकेट के जरिए काउंसलिंग हुई तो ऑन स्पॉट FIR होगा – शिक्षा मंत्री

खबरें बिहार की

Patna: बिहार में शिक्षक भर्ती की शुरुआत 5 जुलाई से हो रही है। प्राथमिक और मध्य विद्यालय में 90,762 पदों पर नियुक्ति की जाएगी। शिक्षा विभाग इसमें गड़बड़ी रोकने के इंतजाम कर रहा है। यदि फर्जी सर्टिफिकेट के जरिए किसी की काउंसलिंग हुई तो ऑन स्पॉट FIR की जाएगी। आपको बता दें कि 2015 में हुई शिक्षक बहालियों पर सरकार की फजीहत हो चुकी है। विजिलेंस को जांच का आदेश भी दिया गया है। इसके बाद हाईकोर्ट ने फर्जी तरीके से बहाल शिक्षकों से कहा इस्तीफा दे दें नहीं तो कार्रवाई होगी। बड़ी संख्या में फर्जी सर्टिफिकेट के आधार पर बहाल शिक्षकों ने इस्तीफा दिया और अपनी जान बचाई।

ऑनलाइन निगरानी होती रहेगी

प्राथमिक शिक्षा के निदेशक रंजीत कुमार सिंह ने शिक्षक नियोजन पर कड़ी नजर रखने के लिए विभाग में एक वार रूम भी बनाया है। वे इसके माध्यम से ऑनलाइन निगरानी रखेंगे। राज्य के सभी 38 जिलों के काउंसिलिंग सेंटर को वार रूम से जोड़ा जाएगा। गड़बड़ी की हर सूचना पर विभाग एक्टिव रहेगा और जिला शिक्षा अधिकारी (DEO) सहित प्रखंड शिक्षा अधिकारी (BEO) से जवाब मांगा जाएगा। 3 जुलाई को शिक्षा विभाग के अफसर इसके लिए सभी जिलों के जिलाधिकारियों के साथ मीटिंग भी करेंगे। यह मीटिंग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी।

ऑरिजनल सर्टिफिकेट जमा होंगे, जांच के बाद ही नियुक्ति पत्र दिए जाएंगे

विभाग ने तैयारी की है कि काउंसलिंग के बाद सर्टिफिकेट की जांच शिक्षा विभाग खुद कराएगा। जांच के बाद ही अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दिया जाएगा। नियोजन के दिन अभ्यर्थी को अपने ओरिजनल सर्टिफिकेट जमा करना पड़ेगा। इसके अगले दिन सभी सर्टिफिकेट एनआईसी पर अपलोड की जाएगी। सभी सर्टिफिकेट की जांच शिक्षा विभाग अपने स्तर से संबंधित यूनिवर्सिटी और बोर्ड से कराएगा।

काउंसलिंग सेंटर पर फर्जी सर्टिफिकेट लेकर आने वाले अभ्यर्थियों पर ऑन स्पॉट FIR दर्ज करने की तैयारी है। विभाग को पुख्ता जानकारी है कि बड़ी संख्या में इस बार भी फर्जी सर्टिफिकेट और फर्जी नंबर के जरिए मेरिट लिस्ट में ऊपर आने की साजिश की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.