19 मई को पीएम मोदी देने जा रहे हैं इंडियन आर्मी को वो तोहफा जिसका था सालों से इंतज़ार !

राष्ट्रीय खबरें

पटना: पीएम मोदी जब से सत्ता में आये हैं तब से देश में विकास ज़रूर हुआ है, वो चाहे बात ज़मीनी स्तर की हो या फिर दूसरे देशों के साथ सम्बन्धों की. पीएम मोदी ने अपने शुरूआती कार्यकाल से ही अपने पड़ोसियों के साथ अच्छे रिश्ते बनाना शुरू कर दिया था, उन्होंने अपने बड़े से लेकर छोटे देशों के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाया था क्योंकि कि वो जानते थे कि अगर विदेश नीती अच्छी होगी तो भारतीय उद्योग में उछाल आयेगा, इन्वेस्टर्स आयेंगे और भारत की अर्थ व्यवस्था मज़बूत होगी.

वहीँ पीएम मोदी द्वारा देश के लिए किये गए विकास किसी से भी छिपे नहीं है. आने वाली 19 मई को भी पीएम मोदी उस विकास की नीव रखने जा रहे हैं जिसका लोग बरसों से इंतज़ार कर रहे थे.

जी हाँ हर साल न जाने कितने लोग घूमने के लिए निकलते हैं, जिसमें से अधिकतर लोगों का सपना होता है लद्दाख जाना, मगर ख़राब मौसम और खराब रास्ते की वजह से लोग हर मौसम में यहाँ नहीं जा पाते. इस समस्या का समाधान निकालते हुए पीएम मोदी अब आने वाली 19 मई को जोजिला पास नाम के एक टनल की नीव रखने जा रहे हैं, क्योंकि खराब मौसम के कारण लद्दाख से घाटी का संपर्क खत्म हो जाता है, इसी वजह से जब यह टनल बन जायेगा तो यह परेशानी ख़त्म हो जाएगी. यकीन मानिये इस टनल के बन जाने के बाद साढ़े 3 घंटे का सफर कुछ मिनटों में पूरा हो जाएगा.

यात्रियों के साथ ही यह टनल बॉर्डर सुरक्षा के लिहाज से भी बहुत महत्वपूर्ण है. वहीँ यह सुरंग लगभग 14.2 किलोमीटर की होगी, जिसे दो लेन की दुतरफा सड़क में बांटा जायेगा. इस पूरे प्रोजेक्ट में 6,809 करोड़ रुपए का खर्चा है और कहा जा रहा है कि यह सुरंग साल 2026 तक तयार हो जाएगी जिसके बाद आम जनता आसानी से कश्मीर से लद्दाख कुछ ही समय में पहुँच सकेंगे.

यह प्रोजेक्ट भारतीय सेना के लिए इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इस टनल का सर्वे साल 1997 में भारतीय सेना ने ही किया था, मगर इस टनल को लेकर ठोस कदम साल 1999 में हुए करगिल युद्ध के बाद ही उठाए गए. वहीँ आर्मी के एक अधिकारी ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, “लद्दाख के लोगों से साल भर देश के दूसरे हिस्से से संपर्क करने का जो वादा किया गया था, उसे पूरा करने की दिशा में यह अगला कदम है.” इस सुरंग का नाम जोजिला सुरंग इसलिए रखा जा रहा है क्योंकि इसका निर्माण समुद्र तल से लगभग 11578 फीट की ऊंचाई पर स्थिति जोजिला दर्रे में किया जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.