14 मार्च को उपेंद्र कुशवाहा थाम सकते हैं नीतीश का दामन! JDU ने कहा- सारे गिले-शिकवे दूर

राजनीति

पटना: राष्ट्रीय लोक समता पार्टी यानी आरएलएसपी (RSLP) के जेडीयू (JDU) में विलय की तैयारी पूरी हो गई है. अब महज औपचारिकता मात्र रह गई है. सूत्रों के मुताबिक़, 14 मार्च को उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) की पार्टी का जेडीयू में विलय हो सकता है. सूत्रों के मुताबिक़, यह विलय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में होगा. इसके पहले 13 मार्च को पटना में जेडीयू की राष्ट्रीय , प्रदेश और ज़िला कार्यसमिति की बैठक बुलाई गई है. इस बैठक में ही विलय के प्रस्ताव और बाक़ी सभी औपचारिकता पूरी कर ली जाएगी.

आरएलएसपी के प्रधान महासचिव माधव आनंद ने न्यूज़ 18 को बताया कि आरएलएसपी के कार्यकर्ताओं का सम्मान सर्वोपरि है, जिसका पूरा ख़्याल रखा जाएगा. माधव आनंद ने कहा, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा के आदेशानुसार 13 मार्च को पार्टी की कार्यसमिति की बैठक बुलाई गई है. जिसमें हर पहलू पर चर्चा होगी. अभी आरएलएसपी की तरफ़ से जेडीयू में विलय को लेकर औपचारिक बयान तो नहीं आया है. लेकिन, जेडीयू और आरएलएसपी के सूत्र रविवार 14 मार्च तक विलय का दावा कर रहे हैं.

जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने न्यूज़ 18 के साथ बात करते हुए उपेन्द्र कुशवाहा की पार्टी के जेडीयू में विलय पर बड़ा बयान दिया. त्यागी ने कहा, कि उपेन्द्र कुशवाहा पुराने साथी रहे हैं. वे नेता प्रतिपक्ष और केंद्र सरकार में मंत्री रहे हैं.

सीएम नीतीश से उनकी कई बार मुलाक़ात हो गई है और पुराने गिले शिकवे दूर हुए हैं. उन्होंने कुशवाहा का स्वागत करते हुए कहा कि उनके आने से पार्टी पुराने गौरव को प्राप्त करेगी. जेडीयू और आरएलएसपी दोनों की बातों से साफ़ है कि अब सारी अड़चने दूर हो गई हैं और कुशवाहा की जल्द जेडीयू में एंट्री होगी.

बिहार में जेडीयू की सहयोगी बीजेपी ने कुशवाहा की जेडीयू में संभावित एंट्री का स्वागत किया है. जबकि, विरोधी आरजेडी ने सवाल खड़ा किया है. बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव ने कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा के आने से जेडीयू और एनडीए मज़बूत होगा. उधर, आरजेडी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश नारायण यादव ने कहा कि जेडीयू कुछ भी कर ले और किसी को शामिल कर ले, धीरे-धीरे जेडीयू घटती जाएगी. फिलहाल जेडीयू के नेता उत्साहित नजर आ रहे हैं. नीतीश-कुशवाहा के मिलन से उन्हें लगता है कि फिर से बिहार में लव-कुश समीकरण की मजबूती दिखने लगेगी.

Source: News18

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *